DA Image
5 जुलाई, 2020|7:01|IST

अगली स्टोरी

खुलासा: महिलाओं में दिल के दौरे का खतरा सबसे ज्यादा

heart attack in women

इसमें कोई शक नहीं कि मधुमेह, दिल से जुड़ी बीमारियों खासकर हार्ट अटैक के खतरे को कई गुना बढ़ा देता है। लेकिन, अब दुनियाभर के 1 करोड़ 20 लाख लोगों पर किए शोध में यह बात सामने आई है कि पुरुषों की तुलना में मधुमेह से पीड़ित महिलाओं में हार्ट अटैक होने या दौरा पड़ने का खतरा कई गुना अधिक होता है।

इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन के आंकड़ों की मानें तो फिलहाल दुनियाभर में 41 करोड़ 50 लाख वयस्क ऐसे हैं जो मधुमेह से पीड़ित हैं। इन 41 करोड़ वयस्कों में से करीब 20 करोड़ महिलाएं हैं जो मधुमेह की मरीज हैं। भारत जिसे आमतौर पर दुनिया का डायबिटीज कैपिटल कहा जाता है, में साल 2017 में मधुमेह के 7 करोड़ 20 लाख मामले थे। इसका मतलब है कि देश की करीब 9 प्रतिशत वयस्क आबादी मधुमेह से पीड़ित है।

हेल्थ टिप्स : सावन में उपवास के दौरान सेहत का रखें ध्यान, पढ़ें 5 जरूरी बातें

डायबेटोलॉजिया नाम के जर्नल में प्रकाशित शोध की मानें तो टाइप 1 डायबिटीज से पीड़ित महिलाओं में पुरुषों की तुलना में हार्ट अटैक होने या दौरा पड़ने का खतरा 47 प्रतिशत अधिक होता है, जबकी टाइप 2 डायबिटीज के मामले में पुरुषों की तुलना में महिलाओं में हार्ट अटैक होने का खतरा 9 प्रतिशत अधिक होता है। इस शोध के सह लेखक सैन पीटर्स की मानें तो मधुमेह से पीड़ित महिलाओं में दिल से जुड़ी बीमारियां अधिक होने के खतरे के पीछे कई कारण हैं।

महिलाओं में प्री-डायबिटीज की अवधि अधिक : पीटर्स कहते हैं, महिलाओं में प्री-डायबिटीज की अवधि पुरुषों की तुलना में 2 साल अधिक होती है और इस बढ़ी हुई अवधि की वजह से ही महिलाओं में हार्ट अटैक का खतरा कई गुना अधिक होता है। मधुमेह के मामले में महिलाओं के इलाज को ज्यादा गंभीरता से नहीं लिया जाता है।

दक्षिण-पूर्वी एशिया में तेजी से बढ़ रहा मलेरिया

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:disclose in reports that The risk of heart attack in women is more than others