DA Image
19 सितम्बर, 2020|11:33|IST

अगली स्टोरी

कोविड-19 : बिना लक्षण वाले मामलों की पुष्टि कर सकेगी ये नई जांच

covid-19 test

वैज्ञानिकों ने रक्त में एंटी-बॉडीज की जांच कर कोरोना वायरस के संक्रमण का पता लगाने के लिए एक ऐसी पद्धति विकसित की है जिसकी मदद से चिकित्सक किसी व्यक्ति को कोविड-19 के संक्रमण का पता लगाने के साथ साथ उन संदिग्ध मामलों की भी पुष्टि कर पाएंगे जिन लोगों की अन्य जांच पद्धति में रिपोर्ट 'नेगेटिव आई हो।      
     
एंटी-बॉडीज रक्त में उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षी कोशिकाएं हैं जो किसी भी रोग से बचाव के लिए उपयोगी होती हैं। शोध करने वालों ने कहा है कि कोविड-19 के लक्षण हल्के से लेकर गंभीर तक देखने को मिल रहे हैं और कुछ लोगों में तो इसका कोई लक्षण भी नजर नहीं आ रहा है। इस तरह, संक्रमण की पुष्टि वाले मामलों की तुलना में 'सार्स-कोवी-2 वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या कहीं अधिक हो सकती है। 
    
हालांकि, और अधिक शोध करने की जरूरत है। फिर भी इस बात की संभावना है कि वायरस की एंटी-बॉडी वाले लोगों में भविष्य में कोविड-19 के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रणाली हो सकती है। 
     
एनालिटिकल केमिस्ट्री जर्नल में प्रकाशित शोध में यह दावा किया गया है। वर्तमान में या पहले कभी संक्रमण की जद में आये लोगों की पहचान करने में मदद के लिये वैज्ञानिकों ने एक शीघ्र, संवदेनशील एंटी-बॉडी जांच विकसित करने की कोशिश की। 
     
इन वैज्ञानिकों में चीन की साउथर्न मेडिकल यूनिवर्सिटी के शोधार्थी भी शामिल हैं। उन्होंने अपनी जांच एक ऐसी पद्धति के आधार पर की, जिसका इस्तेमाल महिलाएं गर्भावस्था की जांच के लिये घरों में खुद से करती हैं। उन्होंने बताया कि इस जांच में सिर्फ 10 मिनट का वक्त लगा। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Covid-19: This new investigation will be able to confirm cases without coronavirus symptoms