DA Image
21 अक्तूबर, 2020|1:52|IST

अगली स्टोरी

अल्ट्रा वायलेट किरणों से कोरोना संक्रमण का खात्मा संभव, वैज्ञानिकों ने किया दावा

ultra violet rays

दुनियाभर में फैल चुकी कोरोना वायरस की महामारी से निपटने के लिए तरह-तरह के नुस्खों के दावे किए जा रहे हैं। अब वैज्ञानिकों का कहना है कि अल्ट्रा वायलेट किरणें (यूवी) मनुष्यों के आसपास उपयोग करने के लिए अधिक सुरक्षित हैं। ये प्रभावी ढंग से नोवल कोरोना वायरस को खत्म कर सकती हैं। अमेरिकन जर्नल ऑफ इंफेक्शन कंट्रोल में यह अध्ययन प्रकाशित हुआ है।

शोधकर्ताओं के अनुसार हम अभी तक यही मानते आए हैं कि पराबैंगनी प्रकाश मनुष्यों के लिए कई बीमारियों का कारण बन सकता है,जिनमें सनबर्न, त्वचा का समय से पहले बूढ़ा होना, आंखों की कई समस्याएं आदि शामिल हैं। हालांकि, हमारे इस शोध से यह साबित हुआ है कि पराबैंगनी प्रकाश का एक हिस्सा मनुष्यों के लिए सुरक्षित है। 

यह सूक्ष्मजीवों जैसे वायरस, बैक्टीरिया आदि की मौत का कारण जरूर बन सकता है। हमने अपने इस अध्ययन में पाया कि 222-एनएम यूवीसी कोरोना जैसे खतरनाक वायरस को मारने में भी सक्षम है। इसके सपंर्क में आने के महज 30 सेकेंड के भीतर सार्स-कोव-2 पूरी तरह से निष्क्रिय हो गए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Covid-19:scientists claim Ultra violet rays can eradicate corona infection