फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़कोविड-19 के उपचार के लिए एम्स द्वारा कोर्डिसेप्स कैपसूल का परीक्षण शुरू

कोविड-19 के उपचार के लिए एम्स द्वारा कोर्डिसेप्स कैपसूल का परीक्षण शुरू

कोरोना की रोकथाम और इसके उपचार के लिए औषधि तैयार करने के प्रयास निरन्तर जारी हैं। एमब्रोसिया फूड फार्म कम्पनी, भोवाली, नैनिताल उत्तराखंड द्वारा इसके लिए परीक्षण किए जा रहे हैं। पहले परीक्षण के परिणाम...

कोविड-19 के उपचार के लिए एम्स द्वारा कोर्डिसेप्स कैपसूल का परीक्षण शुरू
Manju Mamgainलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 20 Oct 2020 06:51 PM
ऐप पर पढ़ें

कोरोना की रोकथाम और इसके उपचार के लिए औषधि तैयार करने के प्रयास निरन्तर जारी हैं। एमब्रोसिया फूड फार्म कम्पनी, भोवाली, नैनिताल उत्तराखंड द्वारा इसके लिए परीक्षण किए जा रहे हैं। पहले परीक्षण के परिणाम इस महीने के अंत तक मिल जाएंगे। परीक्षणों के लिए नियामक संस्थाओं से स्वीकृति ले ली गई है।

कम्पनी के प्रबंधक निदेशक गौरवेन्द्र गंगवार ने कहा कि परीक्षणों के अंतिम परिणाम दिसम्बर 2020 के अंत तक मिल जाएंगे। कोर्डिसेप्स एक औषधीय जड़ी बूटी है और कोर्डिसेप्स कैपसूल रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने वाले और वायरल-रोधी कैपसूल है। उन्होंने कहा कि इसके उत्पादन के लिए किसानों की सेवाएं ली जा रही हैं, जिससे लाखों लोगों को रोजगार मिलेगा।

श्री गंगवार ने कहा कि हम पूरे प्रयास कर रहे हैं और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अपेक्षाओं के अनुरूप कोरोना-मुक्त भारत तथा आत्म निर्भर भारत बनाने की दिशा में यह हमारा योगदान होगा।

एमब्रोसिया फूड फार्म कम्पनी के अनुसंधान और विकास समन्वय अधिकारी श्री विकास विनोद तिवारी ने कहा कि शुरूआती जाँच कार्य डाॅ. ओम सिलाकरी के नेतृत्व में पंजाबी विश्वविद्यालय, पटियाला के औषधि निर्माण विज्ञान और औषधि अनुसंधान विभाग द्वारा किया गया था।

इस अध्ययन के अच्छे परिणाम निकले, जिसे देखते हुए इस परीक्षण की आवश्यकता महसूस की गई। मेड इनडाईट कम्यूनिकेशन प्रा. लि. ने एक अनुसंधान टीम के साथ मिलकर देश भर में इस परीक्षण की तैयारी शुरू की।

गौरवेन्द्र गंगवार के नेतृृत्व में शैलेन्द्र सिंह और विकास विनोद तिवारी की टीम को कोविड-19 के उपचार में कोर्डिसेप्स कैपसूल के ठोस और उपयोगी परिणाम मिलने की पूरी आशा है। कोविड-19 के उपचार के इस परीक्षण से बुनियादी विज्ञानों और परम्परागत चिकित्सा के अनुसंधानकर्ताओं को एक साझा मंच मिल जाएगा।

एम्स नागपुर के प्रोफेसर सिद्धार्थ दुभाषी के नेतृत्व में इस अनुसंधान टीम में एम.जी.एम. मेडिकल काॅलेज, नवी मुम्बई के डाॅ. सागर सिन्हा, जयश्री घनेकर, डाॅ. समीर कदम और डाॅ. परिणीता सामन्त तथा एम्स भोपाल के डाॅ. अमित अग्रवाल हैं।

प्रोफेसर डाॅ. संकल्प द्विवेदी (डीन और निदेशक, एस.एस.आई.एम.एस., भिलाई) इस परीक्षण के मुख्य मेडिकल सलाहकार हैं और उनके साथ एम्स नागपुर की निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी मेजर जनरल डाॅ. विभा दत्ता और एम्स भोपाल के निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी प्रोफेसर सरमन सिंह हैं।

यह देश के लिए ही नहीं, अपितु दुनिया के लिए एक बहुत बड़ा अवसर है, जो वैज्ञानिक आधार पर परम्परागत चिकित्सा और आधुनिक चिकित्सा को जोड़ता है।एमब्रोसिया फूड फार्म कम्पनी, भोवाली, नैनिताल उत्तराखंड के प्रबंधक निदेशक गौरवेन्द्र गंगवार और उनके सहयोगी नई दिल्ली में सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में रोग प्रतिरोधी क्षमता बढाने वाले कोर्डिसेप्स कैपसूल के पैकेटों को प्रदर्शित करते हुए। 

epaper