DA Image
28 मई, 2020|10:19|IST

अगली स्टोरी

Coronavirus : इस वायरस का नाम क्यों पड़ा ‘कोरोना’, जानें कहां से आई यह जानलेवा बीमारी

corona

Coronavirus : कोरोना वायरस को लेकर दुनियाभर में चिंता बढ़ रही हैं। जापान और जर्मनी में को पहली बार इस विषाणु के मानव से मानव में फैलने की जानकारी मिली थी। इसके बाद भारत में भी इसके केरल से एक मामला सामने आया। ऐसे में एशियन देश इस बीमारी को लेकर सचेत होते दिख रहे हैं। कोरोना वायरस से जुड़ी ऐसी कई बातें हैं, जिनकी जानकारी होना बहुत जरूरी है- 


कोरोना वायरस की कैसे हुई उत्पत्ति 
आमतौर पर सभी के मन में यह ख्याल आया होगा कि यह खतरनाक वायरस कहां से आया। मेडिकल रिपोर्ट्स के अनुसार Corona virus कुछ खास प्रजातियों के जानवरों में पाया जानेवाला वायरस है। इनमें सांप और चमगादड़ जैसे जीव शामिल हैं। जब यह वायरस इंसानों में पहुंचा, तो इसने अपने आप को इस तरह विकसित कर लिया कि यह इंसानों में भी जीवित रह पाए यानी इंसानी शरीर में भी ठीक तरीके से पनप सके। इसका यही बदला हुआ मेडिकल एक्सपर्ट्स के सामने चैलेंज बना हुआ है।

इस वायरस का नाम क्यों पड़ा कोरोना
कोई भी समझदार इंसान यह बात को जरूर जानना चाहेगा कि आखिर इस वायरस का नाम कोरोना क्यों पड़ा? दरअसल, जब सूर्य को ग्रहण लगता है यानी सूर्य ग्रहण के वक्त जब पृथ्वी सूर्य को पूरी तरह ढक देती है तो गोले के रूप में सूरज दिखना तो बंद हो जाता है लेकिन उसकी किरणों द्वारा हर तरफ फैल रही रोशनी दिखाई पड़ती है, जो तेजी से कहीं ब्रह्मांड में विलुप्त होती हुई दिखती है। इसे इस तरह भी समझा जा सकता है कि यह सूरजमुखी के फूल की तरह की संरचना बन जाती है। जो बीच से काली होती है और इसके वृत्त के चारों तरफ नर्म किरणों का प्रकाश फैल रहा होता है, जैसे सूरजमुखी की पंखुड़ियां होती हैं। पृथ्वी की छाया के चारों तरफ फैल रही सूर्य की इस रोशनी को कोरोना कहा जाता है। इसी कारण इस वायरस का नाम कोरोना दिया गया क्योंकि इसकी बनावट कोरोना जैसी ही है। दरअसल, यह वायरस गोल है और इसकी सतह पर पृथ्वी के कोरोना की तरह प्रोटीन की स्टेन्स यानी शाखाएं उगी हुई हैं। जो हर दिशा में फैलती हुई महसूस होती हैं।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Coronavirus why this virus called corona and know its origin story