DA Image
26 मई, 2020|10:56|IST

अगली स्टोरी

Coronavirus Mask: 10 फोटो में देखें घर पर कैसे बनाएं मास्क, किन बातों का रखें ख्याल

how to make a homemade face mask

कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण की रोकथाम के लिए घर में बने मास्क को लेकर स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने दिशा-निर्देश जारी किए हैं। सरकार की नियमावली में बताया गया है कि आपको मास्क क्यों पहनना चाहिए? कैसे पहनना चाहिए? बाजार के मास्क और घर पर बनाए गए मास्क में क्या अंतर है? कैसे आप घर पर मास्क खुद ही सिलाई करके बना सकते हैं? कैसे उसे साफ रख सकते हैं। विष्लेशण बताता है कि यदि 50 प्रतिशत जनसंख्या नियमित रूप से मास्क पहनती है, तो केवल 50 फीसदी आबादी के वायरस से संक्रमित होने की आशंका रहती है। अगर 80 प्रतिशत जनसंख्या मास्क पहनती है, तो यह प्रकोप पूरी तरह से रोका जा सकता है।

क्यों जरूरी है मास्क
कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैल रहा है। वायरस एरोसोल में तीन घंटे तक और प्लास्टिक और स्टेनलेस स्टील सतहों पर तीन दिनों तक पाया गया है। संक्रमित व्यक्ति की वजह से कोरोनोवायरस की बूंदें हवा में रूक जाती हैं। मास्क इन बूंदों के श्वसन प्रणाली में प्रवेश करने कि संभावना को कम करता है। सांस लेते समय वायरस को शरीर के अंदर आने की संभावना को कम करने के लिए, एक सुरक्षात्मक मास्क पहनना (जो गर्मी, यूवी प्रकाश, पानी, साबुन और अल्कोहल के उपयोग से अच्छी तरह साफ किया गया है), वायरस के फैलाव को रोकने के लिए महत्वपूर्ण योगदान देगा। भारत में घनी आबादी वाले क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए मास्क पहनना बेहद जरूरी है। 

Coronavirus Mask : मास्क क्यों है जरूरी, कैसे इसे घर पर बनाएं, बाजार के मास्क और घर के मास्क में क्या है अंतर, कैसे करें इस्तेमाल, कैसे साफ रखें, जानें सब कुछ

कोरोना वायरस से सुरक्षा करने वाला मास्क घर पर बनाया जा सकता है। वैज्ञानिकों ने वायरस की रोकथाम के लिए घर में मास्क बनाने की विभिन्न घरेलू सामग्रियों की प्रभावशीलता को मापने के लिए परीक्षण किया। उन्होंने इन सामग्रियों पर 0.02 माइक्रोन कणों (कोरोनावायरस से 5 गुना छोटे) की बमबारी की। उन्होंने पाया कि 100 फीसदी सूती कपड़े की दोहरी परत छोटे कणों को रोकने में सबसे प्रभावशाली होती है। यह सांस को नहीं रोकती। ऐसे में आप आसानी से सूती कपड़े की मदद से मास्क बना सकते हैं। सर्जिकल मास्क की तुलना में 100 फीसदी सूती कपड़े की दोहरी परत, छोटे कणों (कोरोनावायरस की तुलना में लगभग पांच गुना छोटे) को रोकने में लगभग 70 फीसदी प्रभावशाली होती है। घर में बने मास्क का आसानी से फिर से उपयोग किया जा सकता है।

घर में बना मास्क भी आ सकता है कोरोना से जंग में काम, बस इन गाइडलाइंस का रखें ध्यान

यहां जानें घर पर सिलाई वाला मास्क बनाने की विधि -

how to make a homemade face mask

how to make a homemade face mask
how to make a homemade face mask
how to make a homemade face mask
how to make a homemade face mask
 

यहां जानें घर पर बिना सिलाई वाला मास्क बनाने की विधि -

how to make a homemade face mask

how to make a homemade face mask
how to make a homemade face mask
how to make a homemade face mask
 

अपना मास्क कैसे साफ करें

 
how to make a homemade face mask

ध्यान रहें घर में बनाए हुए मास्क, संक्रमित व्यक्ति से निकली कोरोनोवायरस की बूंदों को श्वसन प्रणाली में प्रवेश करने कि संभावना को केवल कम करते हैं। वे पूरी सुरक्षा नहीं देते। जैसा कि निर्देश दिया गया है, पुनः प्रयोग में आने वाले मास्क को हर दिन धो कर गर्मी में सुखाना जरूरी है। बिना धोये पुनः उपयोग नहीं कीजिए। डिस्पोजेबल मास्क को धोकर फिर से उपयोग में न लें। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Coronavirus Mask : How to make a homemade face mask at home with or without sewing know how to use