DA Image
31 मई, 2020|9:39|IST

अगली स्टोरी

कोरोना वायरस के संक्रमण से बेपरवाह न रहें युवा, खतरा उन पर भी कम नहीं

corona lockdown kerala model is most effective in battle with coronavirus covid 19

कोरोना के बारे में आम धारणा है कि इससे बुजुर्गों-बच्चों को ज्यादा खतरा है। मगर विशेषज्ञों की मानें तो वायरस की चपेट में आने या बचे रहने के लिए उम्र सीमा मायने नहीं रखती। अमेरिका में ऐसे युवाओं की भी मौत हुई है, जिनका किसी बीमारी का इतिहास नहीं रहा और प्रतिरोधक क्षमता बेहतर थी।

हल्के में न लें युवा
विशेषज्ञों का कहना है कि युवा यह न सोचें कि उनका प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत है तो संक्रमण नहीं होगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेताया है कि युवाओं को भी सचेत रहना जरूरी है।

सबके लिए खतरा 
विशेषज्ञों के मुताबिक इस वायरस के लिए उम्र कोई मायने नहीं रखती। यह युवाओं के लिए भी उतना ही जोखिम वाला साबित सकता है जितना कि बुर्जुगों और बच्चों के लिए खतरनाक है।

WHO KnowTheFacts: क्या आप कोविड-19 से ठीक हो सकते हैं?, जानें WHO ने इस पर क्या कहा

फेफड़ों पर पड़ता है असर 
साइंस पत्रिका के एक लेख में इम्यूनोलॉजिस्ट डॉ. फिलिप मर्फी ने बताया है कि एसीई-2 जीन की भिन्नताएं हमारी रिसेप्टर (ग्रहण करने की क्षमता) को बदल देती हैं। इससे वायरस को फेफड़ों की कोशिकाओं में पहुंचाने में आसानी हो सकती है। शोध में सामने आया है कि फेफड़ों को सही रखने में मदद करने वाला सर्फेक्टेंट (एक महत्वपूर्ण घटक) कोरोना से संक्रमित कुछ रोगियों में खत्म हो जाता है।

जीन में बदलाव तो वजह नहीं 
शोधकर्ताओं के अनुसार इसका जवाब हमारे जीन में भी छिपा हो सकता है। एक संभावना एसीई-2 जीन में भिन्नता की हो सकती है। *दरअसल, एसीई-2 एक एंजाइम है जो फेफड़ों में कोशिकाओं की बाहरी सतह के साथ-साथ हृदय से *जुड़ता है।

असामान्य पैटर्न 
कोरोना से जुड़े शोध में शामिल अमेरिका की डॉक्टर एंथोनी फौसी का मानना है कि संक्रमण से मौत के मामलों में एक असमान्य पैटर्न दिखाई दे रहा है। कई ऐसे युवाओं की भी मौत हुई है जिसमें गंभीर लक्षण नहीं थे।

मिथ और सच्चाई: मिर्च का सूप पीने से क्या कोरोना का संक्रमण ठीक हो जाता है?


भारत : बुजुर्गों की मौत अधिक पर संक्रमण युवाओं में ज्यादा 
उम्र     संक्रमण     मौत 

0-40     51%     07% 
41-60     33%     30% 
61+     7%     63% 
आंकड़े : स्वास्थ्य मंत्रालय 
( भारत की 44 फीसदी आबादी युवा है )
 
प्रो. नवल विक्रम (एम्स) ने कहा- कोरोना से बुजुर्गों के लिए खतरा भले ही ज्यादा है, पर युवा भी सतर्क रहें। भारत में युवा ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं क्योंकि यहां बुजुर्गों की तुलना में इनकी आबादी ज्यादा है। - 
 
आदतों में बदलाव जरूरी 
- गैजेट दिन में एक बार जरूर साफ करें 
- बात करने में इयरफोन का प्रयोग करें 
- घर से निकलना पड़े तो दूरी का ध्यान दें 
- फोन किसी और को न दें और न लें 
- रुमाल और मोबाइल एक जेब में न हो 
- कोई सामान लेने के बाद हाथ धो लें

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Coronavirus in Young People: Is It Dangerous know what doctors says and data Shows