DA Image
7 जून, 2020|12:47|IST

अगली स्टोरी

Coronavirus: जूते के सोल में 5 दिन तक जिंदा रहता है कोरोना वायरस: स्टडी

shoes

जूते का सोल भी बैक्टेरिया, फंगस और वायरस का प्रमुख अड्डा हो सकता है। एक स्टडी में यह बात सामने आई है कि जूतों के सोल में भी कोरोना वायरस 5 दिन क जिंदा रहता है। दरअसल कोरोना वायरस किसी संक्रमित व्यक्ति की हवा में फैली ड्रापलेट्स के जरिए फैलता है, अगर यही जमीन पर गिरें या फिर जूतों के फीतों पर या हील पर गिरें तो यह इनमें 5 दिनों तक जिंदा रहेगा।

डेली मेल में छपी खबर के मुताबिक वैज्ञानिकों का कहना है कि कोविड 19 जूते के सोल में 5 दिन तक जिंदा रहता है, खासकर ऐसे जूतों में जो व्यस्त क्षेत्रों जैसे सुपर मार्केट, एयरपोर्ट और पब्लिक ट्रांसपोर्ट में पहने गए हों। आपको बता दें कि जूते का सोल ड्यूरेबल सिंथेटिक मैटेरियल्स, जैसे रबर, पीवीसी और लैदर लाइन प्लास्टिक के बने होते हैं। इन सभी चीजों पर बैक्टेरिया हो सकते हैं क्योंकि इनमें से हवा, लिक्विड और नमी गुजर नहीं सकती। 

न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपी एक स्टडी में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस कार्डबोर्ड में 24 घंटे और प्लास्टिक और स्टेनलैस स्टील में तीन दिन तक जिंदा रहता है। स्टडी में यह भी दावा किया गया है कि जूते में इस्तेमाल होने वाले सिंथेटिक मैटेरियल में यह 5 दिन तक जिंदा रहता है।  Missouri हेल्थ एडवाइजर डॉ मैरी इस बात से सहमत हैं और उनका कहना है कि कोरोना वायरस पांच दिन या इससे ज्यादा दिन तक भी कमरे के तापमान में जूतों के फैब्रिक में जिंदा रहता है।  इस दावे को कंसास सिटी पब्लिक हेल्थ स्पेशलिस्ट कारोल ने भी सपोर्ट किया है और कहा है कि जो जूते सिंथेटिक मैटेरियल और प्लास्टिक के बने होते हैं वो एक्टिव वायरस को कई दिनों तक जिंदा रख सकते हैं।

इसलिए जूतों को घर के दरवाजे के बाहर और गैराज में उतारकर घर में घुसना चाहिए। इसलिए ऐसे हेल्थ वर्कर, शॉप असिस्टेंट को सलाह दी जाती है कि ये लोग एक समय में एक ही जूतों को पहनकर घर से बाहर निकलें। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Coronavirus: corona virus stays alive for 5 days in shoe sole: study