DA Image
26 फरवरी, 2020|11:12|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेहद लाभदायक होता है गहरी सांस लेना, जानें इसके 8 फायदे

benefits of deep breathing

रोजाना बस कुछ ही पलों के लिए गहरी सांस लेने का व्यायाम तनाव को कम कर सकता है और मन, शरीर को आराम दिला सकता है और बेहतर नींद में मदद कर सकता हैं। सही ढंग से सांस लेना व्यक्ति के सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। इसके फायदे बेशुमार हैं। 

www.myupchar.com के मुताबिक यहां कुछ महत्वपूर्ण लाभों के बारे में बता रहे हैं जो गहरी सांस लेने के इस व्यायाम से मिलते हैं। गहरी सांस के व्यायाम के फायदे लेने के लिए उसकी सही तकनीक के बारे में जानकारी होना बेहद जरूरी है।

आराम से बैठ या लेट जाएं और धीरे से नाक से सांस लेते हुए पेट को हवा से भर लें। अब नाक से धीरे-धीरे हवा को बाहर निकालें और यह प्रक्रिया करते समय एक हाथ पेट पर और दूसरा हाथ सीने पर रखें।  धीरे-धीरे सांस लेते समय पेट के हवा भरने की क्रिया को महसूस करें। छोड़ते समय पेट के नीचे जाने पर भी महसूस करें। जब सांस गहरी होती है तो पेट पर रखा हाथ सीने पर रखे हाथ की तुलना में अधिक ऊपर जाता है।

नैचुरल पेनकिलर : जब गहरी सांस लेते हैं, तो शरीर एंडोर्फिन रिलीज करता है जो कि अच्छा हार्मोन है और शरीर द्वारा बनाया गया एक नैचुरल पेनकिलर है।

रक्त प्रवाह में सुधार : जब गहरी सांस लेते हैं, तो डायाफ्राम की ऊपर और नीचे की गति रक्त प्रवाह को बढ़ावा देने वाले शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करती है।

ऊर्जा स्तर बढ़ाता है : रक्त का प्रवाह बढ़ने से व्यक्ति को रक्त में अधिक ऑक्सीजन मिलती है। ऑक्सीजन बढ़ने से ऊर्जा के स्तर में वृद्धि होती है।

पोश्चर में सुधार करता है : गलत पोश्चर गलत श्वास से संबंधित है। इसकी जांच खुद कर सकते हैं। गहरी सांस लेने की कोशिश करें और प्रक्रिया के दौरान नोटिस करें कि शरीर कैसे सीधा होने लगता है। जब फेफड़ों को हवा से भरते हैं, तो शरीर खुद ही रीढ़ को सीधा करने लगता है।

सूजन को कम करता है : कहा जाता है कि कैंसर जैसे रोग केवल उन शरीर में पनपते हैं, जिनकी प्रकृति अम्लीय हैं। गहरी सांस लेने से शरीर में अम्लता कम होती है, जिससे यह क्षारीय हो जाता है। तनाव शरीर में अम्लता के स्तर को भी बढ़ाता है। सांस लेने से तनाव भी कम होता है और इस तरह एसिडिटी कम होती है।

शरीर को डिटॉक्स करता है : कार्बन डाइऑक्साइड एक प्राकृतिक विषैला कचरा है जो सांस के जरिए निकलता है। लेकिन जब उथली सांस लेते हैं तो डिटॉक्सिफिकेशन सिस्टम इस कचरे को बाहर निकालने के लिए कड़ी मेहनत करना शुरू कर देता है। इससे शरीर कमजोर हो सकता है और बीमारी हो सकती है।

पाचन क्रिया को दुरुस्त करता है : गहरी सांस लेना पाचन तंत्र सहित शरीर के सभी अंगों को अधिक ऑक्सीजन की आपूर्ति करता है, जिससे यह अच्छी तरीके से काम कर पाता है। गहरी सांस लेने के कारण बढ़ा हुआ रक्त प्रवाह भी आंतों की कार्यप्रणाली में सुधार करता है, जिससे समग्र पाचन में सुधार होता है।

मन और शरीर को आराम मिलता है : जब व्यक्ति गुस्से में, थका हुआ या डरा हुआ होता है, तो उसकी मांसपेशियां कड़ी हो जाती हैं और सांस उथली हो जाती है। सांसें रुकती हैं। इस समय शरीर को उस ऑक्सीजन की मात्रा नहीं मिल रही होती है, जिसकी उसे जरूरत है। लंबी गहरी सांस इस प्रक्रिया को उलट देती हैं, जिससे आपका शरीर और दिमाग शांत हो जाता है।

अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

www.myUpchar.com द्वारा लिखे गए हैं