फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़हेल्‍दी हार्ट के लिए अपने 20 के दशक में ही उठाएं ये 5 स्‍वस्‍थ कदम

हेल्‍दी हार्ट के लिए अपने 20 के दशक में ही उठाएं ये 5 स्‍वस्‍थ कदम

दिल स्वस्थ हो तो आप स्वस्थ हैं। हमारी जीवनशैली ऐसी हो गयी है कि हमारी आदतें ही हमारे गिरते स्वास्थ्य के लिए जिम्मेदार हैं। जंक फूड, व्यायाम न करना, शराब का सेवन इत्यादि बहुत सी आदतें हैं जो आपको हृदय...

हेल्‍दी हार्ट के लिए अपने 20 के दशक में ही उठाएं ये 5 स्‍वस्‍थ कदम
Yogita YadavhealthshotsWed, 23 Sep 2020 08:01 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल स्वस्थ हो तो आप स्वस्थ हैं। हमारी जीवनशैली ऐसी हो गयी है कि हमारी आदतें ही हमारे गिरते स्वास्थ्य के लिए जिम्मेदार हैं। जंक फूड, व्यायाम न करना, शराब का सेवन इत्यादि बहुत सी आदतें हैं जो आपको हृदय सम्बंधी बीमारियों का शिकार बनाती हैं। दिल और कार्डियोवस्कुलर बीमारियों को दूर रखने के लिए आप कुछ आसान कदम उठा सकते हैं।

 

1. आप कितना खाते हैं यह महत्वपूर्ण है

अपने भोजन के पोर्शन पर नियंत्रण रखना जरूरी है। खाना इस तरह नहीं खाना चाहिए कि आपको पेट पूरी तरह भरा महसूस हो। आप ज्यादा खाएंगे, यानी ज्यादा कैलोरी लेंगे।

 

अगर आपको ज्यादा भूख लगती है, तो अपनी प्लेट में सलाद की मात्रा बढ़ाएं, रोटी या चावल की नहीं। छोटी प्लेट का इस्तेमाल करें ताकि कम भोजन में ही प्लेट भर जाए और आपके दिमाग को लगे कि आपने ज्यादा खाया है। धीरे-धीरे और चबाकर खाएं, इससे भी आप कम खाएंगे।

 

healthy-diet

 

2. हरी सब्जियां और फल ज्यादा खाएं

फल और सब्जियां विटामिन और मिनरल्स का महत्वपूर्ण स्रोत हैं। इनमें कैलोरी कम होती है और फाइबर अधिक होता है। शाकाहारी भोजन दिल के लिए अधिक फायदेमंद होता है। ताजे फल सब्जियों को चुनें, पैक्‍ड, डिब्‍बाबंद फूड या जूस नहीं क्योंकि इनमें सोडियम और शुगर की मात्रा कम होती है। अगर व्यस्त रहती हैं तो फल आपका समय और सेहत दोनों बचा सकते हैं। भोजन में भी ऐसी रेसेपी चुनें जिनमें अधिक सब्जियां शामिल हों।

 

3. साबुत अनाज चुनें

साबुत अनाज (Whole grain) का अर्थ है अनाज के साथ-साथ उसकी भूसी का भी सेवन। साबुत अनाज में फाइबर कई गुना अधिक होता है और यह ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में बहुत कारगर है। साबुत अनाज में गेंहू का बिना रिफाइन किया हुआ आटा, ब्राउन राइस, बार्ली और ओट मील शामिल है।

 

4. अनहेल्दी फैट से बचें

सैचुरेटेड और ट्रान्स फैट युक्त भोजन को सीमित या ना के बराबर ही खाएं। इस तरह के भोजन ही आपके कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाते हैं जिससे कोरोनरी आर्टरी डिजीज का जोखिम बढ़ता है। अधिक कोलेस्ट्रॉल होने से आपकी खून की नसों में प्लाक जमने लगता है, जिससे ब्लड सर्कुलेशन मुश्किल हो जाता है, जिससे हार्ट अटैक की सम्भावना बढ़ जाती है।

 

happy-heart

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन की गाइडलाइंस हैं कि आपकी डाइट में 11 से 13 ग्राम सैचुरेटेड फैट ही होना चाहिये।

 

5. प्रोटीन के लो-फैट विकल्प चुनें

अक्सर हमारे प्रोटीन के स्रोत फैट में भी प्रचुर होते हैं, जैसे मीट, डेरी प्रोडक्ट और अंडे। यह आपको ख्याल रखना है कि आप प्रोटीन में कमी किये बिना ही फैट अपनी डाइट से कम करें।

फिश, फैट निकला दूध और अंडे की सफेदी प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं। साथ ही बीन्स और दाल प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं, जिसमें फैट नहीं होता। सोयाबीन और टोफू भी आप अपने आहार में शामिल कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें - हार्ट हेल्‍थ से लेकर वेट लॉस तक में मददगार है मूंगफली, हम बताते हैं इसके सेवन का असान तरीका 

epaper