DA Image
हिंदी न्यूज़ › हरियाणा › चौटाला परिवार की कलह फिर हुई जगजाहिर, देवी लाल की सियासी विरासत पर काबिज होने की मची होड़
हरियाणा

चौटाला परिवार की कलह फिर हुई जगजाहिर, देवी लाल की सियासी विरासत पर काबिज होने की मची होड़

सिरसा। वार्ता Published By: Praveen Sharma
Sun, 26 Sep 2021 05:33 PM
चौटाला परिवार की कलह फिर हुई जगजाहिर, देवी लाल की सियासी विरासत पर काबिज होने की मची होड़

पूर्व उप-प्रधानमंत्री दिवंगत चौधरी देवी लाल की राजनीतिक विरासत पर काबिज होने के लिए चौटाला परिवार में मची होड़ शनिवार को उनकी जयंती पर भी देखने को मिली। 

चौटाला परिवार की आज चौथी पीढ़ी सियासत में है। देवी लाल के पुत्र ओम प्रकाश चौटाला के नेतृत्व वाले इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) ने हर साल की तरह इस बार भी 25 सितंबर को 'सम्मान दिवस समारोह' मनाया और जींद में रैली कर शक्ति प्रदर्शन किया, जिसमें पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, जम्मू के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुला, जेडीयू नेता के.सी. त्यागी और पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी बिरेंद्र सिंह आदि ने शिरकत की। इनेलो, इधर फिर से 'गैर कांग्रेसी-गैर भाजपाई“ मोर्चा बनाने की बात कर रहा है। 

उधर, 2018 में बगावत का बिगुल बजाकर जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) बनाने वाले दुष्यंत चौटाला, जो 2019 में दस सीटें पाने के बाद मनोहर लाल खट्टर की अगुवाई वाली गठबंधन सरकार में उपमुख्यमंत्री बन चुके हैं, उन्होंने मेवात में चौधरी देवीलाल की प्रतिमा के अनावरण के बहाने अलग कार्यक्रम किया। प्रदेश सरकार में बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने अपने सिरसा स्थित आवास पर  कार्यकर्ताओं को सहभोज करवाकर पहली बार देवी लाल जयंती के अवसर पर श्रद्धांजलि अर्पित की।

चौटाला बोले- जल्द हरियाणा की सत्ता में वापसी करेगी इनेलो 

वर्ष 2019 के विधानसभा चुनाव में रानियां से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े और जीते रणजीत सिंह ने चुनाव प्रचार में चौधरी देवी लाल के पोस्टर लगाए थे और विरासत को भुनाने की कोशिश की थी।

हालांकि, जेबीटी घोटाले में सजा काटकर हाल में ही जेल से बाहर आए पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला के आने के बाद इनेलो में फिर से उम्मीद जगी है कि पिछले करीब तीन साल से गर्दिश में चल रहे इनेलो के सितारे जल्द फिरेंगे। पिछले विधानसभा चुनाव में इनेलो को सिर्फ एक सीट ऐलनाबाद पर सफलता मिली थी और वह भी अभय चौटाला किसान आंदोलन के समर्थन में छोड़ चुके हैं। इनेलो को इस समय देवी लाल की विरासत का ही सहारा है।

इस संदर्भ में पूर्व मुख्यमंत्री ने बातचीत में कहा कि स्वर्गीय चौधरी देवी लाल देश के सर्वप्रिय नेता थे और उनकी तस्वीरें कोई भी लगा सकता है, मगर उनके नेतृत्व वाले सियासी दल इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) का संचालन हम कर रहे हैं, इसलिए असली सियासी वारिस इनेलो व उससे जुड़े कार्यकर्ता ही हैं। 

संबंधित खबरें