फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ हरियाणाहरियाणा पंचायत चुनाव के नतीजे घोषित, किस पार्टी का बजा डंका, किसे मिली मायूसी

हरियाणा पंचायत चुनाव के नतीजे घोषित, किस पार्टी का बजा डंका, किसे मिली मायूसी

हरियाणा में पंचायत समिति और जिला परिषद चुनावों (Haryana Panchayat Polls) के लिए मतगणना हुई। सिरसा जिला परिषद के एक वार्ड से इनेलो नेता अभय चौटाला के बेटे करण चौटाला ने जीत दर्ज की है।

हरियाणा पंचायत चुनाव के नतीजे घोषित, किस पार्टी का बजा डंका, किसे मिली मायूसी
Krishna Singhभाषा,चंडीगढ़Sun, 27 Nov 2022 11:27 PM
ऐप पर पढ़ें

हरियाणा पंचायत चुनाव के नतीजे रविवार को घोषित किए गए, जिसमें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), आम आदमी पार्टी (आप) और इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के उम्मीदवारों ने राज्य में जिला परिषदों की कई सीटों पर जीत दर्ज की। एक वरिष्ठ निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि सभी निर्वाचित उम्मीदवारों के नामों की अधिसूचना हरियाणा राज्य सरकार के गजट में 30 नवंबर से पहले जारी कर दी जाएगी। पार्टी के एक नेता के अनुसार, सत्तारूढ़ भाजपा ने अंबाला, यमुनानगर और गुरुग्राम सहित सात जिलों में जिला परिषद की 102 में से 22 सीटों पर जीत हासिल की।    

हालांकि, भाजपा को पंचकूला में झटका लगा, जहां उसे जिला परिषदों की 10 सीटें गंवानी पड़ीं। 'आप' पंचायत चुनावों में अपनी मौजूदगी दर्ज कराने में कामयाब रही और उसने सिरसा, अंबाला, यमुनानगर और जींद सहित कुछ जिलों में जिला परिषद की 15 सीटों पर जीत दर्ज की है। 'आप' ने जिला परिषद की लगभग 100 सीटों पर चुनाव लड़ा था। इनेलो, जिसने जिला परिषद की 72 सीटों पर चुनाव लड़ा था, ने चुनावों में 14 सीटों पर जीत दर्ज की।

कांग्रेस ने अपने पार्टी चिन्ह पर पंचायत चुनाव नहीं लड़ा था। राजनीतिक दलों ने यह भी दावा किया कि जिन उम्मीदवारों का उन्होंने समर्थन किया था, उन्होंने जिला परिषद की कई सीटों पर जीत दर्ज की है। कई निर्दलीय उम्मीदवारों ने जिला परिषद चुनावों में जीत दर्ज की, जिससे राजनीतिक दलों को झटका लगा।

सिरसा के जिला परिषद के वार्ड नंबर छह से इनेलो नेता एवं ऐलनाबाद सीट से विधायक अभय चौटाला के बेटे करण चौटाला 600 से अधिक मतों से जीते। चुनाव परिणामों के बाद पत्रकारों से बात करते हुए करण चौटाला ने चुनाव में अपनी जीत के लिए मतदाताओं को धन्यवाद दिया। शाहबाद जिला परिषद के वार्ड नंबर एक से जननायक जनता पार्टी (जजपा) विधायक रामकरण कला के बेटे कंवरपाल जीते।

हारने वाले प्रमुख उम्मीदवारों में कुरुक्षेत्र के भाजपा सांसद नायब सिंह सैनी की पत्नी हैं, जिन्हें अंबाला जिला परिषद के वार्ड नंबर 4 से एक निर्दलीय उम्मीदवार ने पराजित किया। राज्य में 143 पंचायत समितियों और 22 जिला परिषदों के चुनाव तीन चरणों में हुए थे। हरियाणा में 22 जिला परिषद हैं, जिनमें 411 सदस्य हैं। ये सदस्य 22 जिला परिषदों के प्रमुखों का चुनाव करेंगे। राज्य में 143 पंचायत समितियां हैं, जिनमें 3,081 सदस्य हैं जो अपने-अपने प्रमुखों का चुनाव करेंगे।

मतगणना केंद्रों पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच पंचायत समिति और जिला परिषद चुनाव की मतगणना सुबह आठ बजे शुरू हुई थी। चुनाव परिणाम के बाद, भाजपा की हरियाणा इकाई के प्रमुख ओ. पी. धनखड़ ने कहा कि जिला परिषदों और पंचायत समितियों के लिए ज्यादातर स्थानों पर भाजपा उम्मीदवारों और पार्टी समर्थित उम्मीदवारों को चुना गया है। उन्होंने चुनाव में जीत दर्ज करने वाले उम्मीदवारों को बधाई दी। 

'आप' प्रमुख एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जिला परिषद चुनावों में अपनी पार्टी के उम्मीदवारों को उनकी जीत के लिए बधाई दी। केजरीवाल ने एक ट्वीट में उनसे पूरे समर्पण के साथ लोगों के लिए काम करने को कहा। 'आप' सांसद एवं पार्टी के हरियाणा प्रभारी सुशील गुप्ता ने कहा कि 'आप' ने जिला परिषदों की 15 सीट जीती हैं। उन्होंने दावा किया कि चुनाव परिणाम से यह स्पष्ट हो गया है कि राज्य में आने वाला समय आम आदमी पार्टी का है।

इस बीच, हरियाणा राज्य निर्वाचन आयुक्त धनपत सिंह ने कहा कि राज्य में 143 पंचायत समितियों के 3,081 सदस्यों में से 117 पहले ही सर्वसम्मति से चुने जा चुके हैं। राज्य में 2,964 सदस्यों के शेष पदों के लिए 11,888 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था। उन्होंने कहा कि 22 जिला परिषदों के 411 सदस्यों के लिए चुनाव हुए थे और इन पदों के लिए 3,072 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था। 

धनपत सिंह ने बताया कि सभी 22 जिलों के 143 प्रखंडों में जिला परिषद के 411 सदस्यों और पंचायत समितियों के शेष 2,964 सदस्यों के चुनाव के लिए मतगणना शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुई। उन्होंने कहा कि सभी निर्वाचित उम्मीदवारों के नामों की अधिसूचना 30 नवंबर से पहले हरियाणा राज्य सरकार के राजपत्र (गजट) में विधिवत जारी कर दी जाएगी। इससे पहले, प्रत्येक चरण में मतदान के तुरंत बाद पंच और सरपंच के चुनाव के परिणाम घोषित किए गए थे।