फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News हरियाणादुखी हैं पर नहीं चलेगी उनकी बिना इंजन की गाड़ी, 3 निर्दलीय विधायकों के पाला बदलने पर अनिल विज

दुखी हैं पर नहीं चलेगी उनकी बिना इंजन की गाड़ी, 3 निर्दलीय विधायकों के पाला बदलने पर अनिल विज

हरियाणा में तीन विधायकों के जाने पर पूर्व मंत्री अनिल विज ने कहा कि हम उन विधायकों के जाने से दुखी जरूर हैं लेकिन, विपक्षी गठबंधन की गाड़ी इस बार भी बिना इंजन के ऐसे ही खड़े रहने वाली है।

दुखी हैं पर नहीं चलेगी उनकी बिना इंजन की गाड़ी, 3 निर्दलीय विधायकों के पाला बदलने पर अनिल विज
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Wed, 08 May 2024 12:09 PM
ऐप पर पढ़ें

हरियाणा में तीन निर्दलीय विधायकों के भाजपा से अपना समर्थन वापस लेने के बाद राज्य में सियासत गर्मा गई है। विपक्ष की ओर से अब फ्लोर टेस्ट की मांग उठ रही है। हालांकि ताजा हालातों को देखते हुए सैनी सरकार अल्पमत में है लेकिन, इसके बावजूद भाजपा नेता दावा कर रहे हैं कि उनकी सरकार को कोई खतरा नहीं है। वहीं, इस मामले में हरियाणा के पूर्व मंत्री अनिल विज का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि हम उन विधायकों के जाने से दुखी जरूर हैं लेकिन, विपक्षी गठबंधन की गाड़ी इस बार भी बिना इंजन के ऐसे ही खड़े रहने वाली है।

हरियाणा में लगातार बदल रहे राजनीतिक हालातों पर हरियाणा के पूर्व मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अनिल विज ने कहा कि हम तीन निर्दलीय विधायकों के कांग्रेस को समर्थन देने से दुखी हैं लेकिन, हमारे पास ट्रिपल इंजन वाली सरकार है। तीन नेता हमारे राज्य की देखभाल कर रहे हैं- सीएम नायब सिंह सैनी, पूर्व सीएम मनोहर लाल खट्टर और पीएम नरेंद्र मोदी। लोगों ने मन बना लिया है कि वे पीएम नरेंद्र मोदी को ही अगले प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं और तीसरी बार इंडी गठबंधन की बिना की गाड़ी ऐसे ही खड़ी रहेगी।

गौरतलब है कि हरियाणा में तीन निर्दलीय विधायकों ने मंगलवार को भाजपा सरकार से समर्थन वापस ले लिया और घोषणा की कि वे कांग्रेस का समर्थन करेंगे। इसके साथ ही नायब सिंह सैनी सरकार राज्य विधानसभा में अल्पमत में आ गई है। हरियाणा की 90 सदस्यीय विधानसभा में सदस्यों की मौजूदा क्षमता 88 है। सरकार के पास बहुमत से दो विधायक कम हैं। वर्तमान में भाजपा नीत सरकार को दो अन्य निर्दलीय विधायकों का समर्थन प्राप्त है।

निर्दलीय विधायक सोमबीर सांगवान (दादरी), रणधीर सिंह गोलन (पुंडरी) और धर्मपाल गोंदर (नीलोखेड़ी) ने नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा और प्रदेश कांग्रेस प्रमुख उदय भान की मौजूदगी में रोहतक में संवाददाता सम्मेलन में अपने फैसले की घोषणा की थी।