DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   हरियाणा  ›  PM मोदी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी को लेकर हरियाणा BKU अध्यक्ष के खिलाफ केस दर्ज

हरियाणाPM मोदी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी को लेकर हरियाणा BKU अध्यक्ष के खिलाफ केस दर्ज

कुरुक्षेत्र। भाषाPublished By: Praveen Sharma
Tue, 13 Oct 2020 08:36 PM
PM मोदी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी को लेकर हरियाणा BKU अध्यक्ष के खिलाफ केस दर्ज

हरियाणा की कुरुक्षेत्र पुलिस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने के आरोप में भारतीय किसान यूनियन (BKU) की हरियाणा इकाई के प्रमुख गुरनाम सिंह के खिलाफ मंगलवार को मामला दर्ज कर लिया।

किसान यूनियन के नेता ने किसानों से दशहरा उत्सव के दौरान प्रधानमंत्री का पुतला जलाने की अपील की थी। इसके कुछ घंटे बाद ही शाहबाद थाने में शिकायत दर्ज कराई गई। यह शिकायत साहिल नामक एक सामाजिक कार्यकर्ता ने दर्ज कराई है। इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए किसान नेता ने आरोप लगाया कि सरकार नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों की आवाज को दबाने के लिए इस तरह के कदम उठा रही है।

पुलिस ने कहा कि BKU प्रमुख को विभिन्न समूहों के बीच कटुता को बढ़ावा देने और शांति भंग करने के लिए उकसाने सहित अन्य आरोपों में नामजद किया गया है।

वीडियो के आधार पर दर्ज की गई एफआईआर

कुरुक्षेत्र के पुलिस अधीक्षक राजेश दुग्गल ने बताया कि गुरनाम सिंह के खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है और आगे जांच की जा रही है। यह एफआईआर एक वीडियो संदेश के आधार पर दर्ज की गई है जिसमें किसान नेता किसानों से कृषि कानूनों के विरोध में सभी ब्लॉकों में प्रधानमंत्री का पुतला जलाने की बात कहते दिखाई देते हैं। साहिल ने अपनी शिकायत में कहा कि वह अपना फेसबुक अकाउंट देख रहे थे कि तभी उन्हें BKU प्रमुख का वीडियो संदेश दिखा जिसमें प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ अपमानजनक शब्दों का प्रयोग किया गया है। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि वीडियो संदेश भड़काऊ है और इससे समाज के विभिन्न वर्गों के बीच शत्रुता पैदा हो सकती है। 

दुग्गल ने कहा कि गुरनाम सिंह के खिलाफ अन्य लोगों से भी इसी तरह की शिकायतें मिली हैं जिनमें पूर्व भाजपा विधायक पवन सैनी की शिकायत भी शामिल है।

किसानों की आवाज दबाने का हो रहा प्रयास

वहीं, एफआईआर के बारे में गुरनाम सिंह ने कहा कि मुझे जानकारी मिली है कि राज्य में आज मेरे खिलाफ इसी आधार पर दो और मामले दर्ज किए गए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की आवाज को दबाने के लिए ऐसे हथकंडे अपना रही है, लेकिन वे कामयाब नहीं होंगे। उनके पास सिर्फ एक ही विकल्प है- किसान विरोधी काले कानूनों को वापस लेना।

गुरनाम सिंह ने कहा कि वे कितने भी मुकदमे क्यों न दर्ज कर लें, इन काले कानूनों के खिलाफ हमारा विरोध तब तक जारी रहेगा, जब तक इन कानूनों को वापस नहीं ले लिया जाता। प्रधानमंत्री के खिलाफ उनकी टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वे हर ब्लॉक में नए कानूनों का विरोध करने के लिए प्रधानमंत्री का पुतला जलाएंगे। उन्होंने कहा कि अगले महीने, इन कानूनों के खिलाफ एक दिन का राष्ट्रव्यापी 'चक्का जाम' किया जाएगा। 

संबंधित खबरें