फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News हरियाणाहरियाणा में धमकी पाने वाले विधायकों की सुरक्षा बढ़ेगी, चार-पांच अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी होंगे तैनात, STF कर रही जांच

हरियाणा में धमकी पाने वाले विधायकों की सुरक्षा बढ़ेगी, चार-पांच अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी होंगे तैनात, STF कर रही जांच

अनिल विज ने रविवार को कहा था कि विधायकों को ये सभी फोन विदेश से आ रहे हैं। विज ने कहा कि मामले को आगे की जांच के लिए एसटीएफ को सौंप दिया गया है और वह दैनिक आधार पर मामले की निगरानी कर रहे हैं।

हरियाणा में धमकी पाने वाले विधायकों की सुरक्षा बढ़ेगी, चार-पांच अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी होंगे तैनात, STF कर रही जांच
Praveen Sharmaचंडीगढ़ | भाषाMon, 11 Jul 2022 11:16 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

हरियाणा के पांच विधायकों को हाल में कथित रूप से धमकी भरे फोन आने के बाद विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने सोमवार को राज्य पुलिस के शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक की और यह निर्णय लिया गया कि उनकी सुरक्षा में चार या पांच अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी तैनात किए जाएंगे।

विधानसभा अध्यक्ष ने पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) पी.के. अग्रवाल, अतिरिक्त डीजीपी अपराध जांच विभाग (सीआईडी) ​​आलोक मित्तल, एडीजीपी (कानून व्यवस्था) संदीप खिरवार और पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) (सुरक्षा) सौरभ सिंह के साथ बैठक की।

यहां एक बयान के अनुसार, बैठक में निर्णय लिया गया कि जिन विधायकों को धमकी मिली उनकी सुरक्षा के लिए चार-पांच अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी तैनात किए जाएंगे। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से विधायकों को मिले धमकी भरे फोन और मैसेज की उच्च स्तरीय जांच करने को भी कहा है। विधानसभा अध्यक्ष ने अन्य विधायकों की सुरक्षा की समीक्षा करने के भी निर्देश दिए है। हरियाणा में 90 सदस्यीय विधानसभा है।

एसटीएफ कर रही जांच

राज्य के गृह मंत्री अनिल विज ने रविवार को कहा था कि विधायकों को ये सभी फोन विदेश से आ रहे हैं। विज ने कहा कि मामले को आगे की जांच के लिए विशेष कार्य बल (एसटीएफ) को सौंप दिया गया है और वह दैनिक आधार पर जांच से जुड़े घटनाक्रम की निगरानी कर रहे हैं। जिन विधायकों को धमकी भरे फोन आए हैं उनमें एक भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से है, शेष चार मुख्य विपक्षी कांग्रेस के हैं और अधिकांश फोन अज्ञात नंबरों से विधायकों के मोबाइल फोन पर किए गए थे जिसमें उनसे रंगदारी की मांग करते हुए धमकी दी गई थी।

विधानसभा अध्यक्ष गुप्ता ने कहा कि जनता के चुने हुए प्रतिनिधियों को जान से मारने की धमकी देने वाले लोकतांत्रिक व्यवस्था को सीधे चुनौती दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि विधायक सिर्फ एक व्यक्ति नहीं होता, बल्कि वह लाखों लोगों का प्रतिनिधि होता है। उन्होंने कहा कि विधायक इन लोगों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं।

उन्होंने कहा कि विधायक कई तरह के सार्वजनिक मुद्दे उठाते हैं और अगर उन्हें ऐसी धमकियां मिलती हैं तो वे अपनी जिम्मेदारी ठीक से नहीं निभा पाएंगे। गुप्ता ने पुलिस विभाग के आला अधिकारियों से कहा कि वे जनप्रतिनिधियों की हर कीमत पर सुरक्षा सुनिश्चित करें। इससे पहले गुप्ता ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को पत्र लिखकर धमकी भरे फोन मिलने वाले विधायकों की सुरक्षा बढ़ाने की मांग की थी।