फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News गुजरातRajkot TRP Gaming Zone Fire : राजकोट टीआरपी गेमिंग जोन अग्निकांड का मुख्य आरोपी दबोचा, 28 लोगों की गई थी जान

Rajkot TRP Gaming Zone Fire : राजकोट टीआरपी गेमिंग जोन अग्निकांड का मुख्य आरोपी दबोचा, 28 लोगों की गई थी जान

गुजरात के राजकोट टीआरपी गेमिंग जोन अग्निकांड के मुख्य आरोपी को बनासकांठ क्राइम ब्रांच पुलिस और राजकोट पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी की पहचान आबू रोड निवासी धवल ठक्कर के रूप में हुई है।

Rajkot TRP Gaming Zone Fire : राजकोट टीआरपी गेमिंग जोन अग्निकांड का मुख्य आरोपी दबोचा, 28 लोगों की गई थी जान
gujarat rajkot trp gaming zone fire incident prime accused arrested by police
Praveen Sharmaराजपिपला (गुजरात)। एएनआईTue, 28 May 2024 08:11 AM
ऐप पर पढ़ें

गुजरात के राजकोट टीआरपी गेमिंग जोन अग्निकांड के मुख्य आरोपी को बनासकांठा लोकल क्राइम ब्रांच पुलिस और राजकोट पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने कहा कि आरोपी की पहचान आबू रोड निवासी धवल ठक्कर के रूप में हुई है। गेमिंग जोन में आग लगने के बाद वह फरार हो गया था, जिसमें 28 लोगों की जान चली गई थी। इससे पहले, गेमिंग जोन में आग लगने के मामले में गिरफ्तार तीन लोगों को राजकोट जिले की एक अदालत ने सोमवार को 14 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया था।

विशेष लोक अभियोजक (एसपीपी) तुषार गोकानी ने कहा कि अतिरिक्त न्यायिक मजिस्ट्रेट बी.पी. ठाकर की अदालत ने तीन आरोपियों युवराज हरि सिंह सोलंकी, नितिन जैन और राहुल राठौड़ को दो सप्ताह के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया।

तुषार गोकानी ने सोमवार को मीडिया से बात करते हुए कहा, "आज आरोपियों को अदालत के सामने लाया गया और 14 दिनों की अतिरिक्त पुलिस हिरासत की मांग की गई। एफआईआर में नामजद 6 आरोपियों में से 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है, जिनमें से दो के नाम एफआईआर में हैं और उनमें से एक का नाम नहीं था।”

अदालत में पछतावे का नाटक कर रहा था एक आरोपी

उन्होंने कहा कि रिमांड का मुख्य आधार यह था कि वे जांच में सहयोग नहीं कर रहे थे। जो भी सवाल पूछे गए और जो भी दस्तावेज मांगे गए, आरोपी उनका 'गोलमोल जवाब' दे रहे हैं। वे कह रहे हैं कि घटना में यह जल गया था। वे हैं जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आरोपी सोलंकी ने अदालत के सामने घटना पर पश्चाताप से भरे होने का नाटक किया। गोकानी ने कहा कि जब वह अदालत में दाखिल हुआ तो उसने यह दिखाने की कोशिश की कि उसे घटना पर पछतावा है और सभी को लगा कि वह रो रहा है। 5 मिनट के बाद वह हंस रहा था और अदालत से बहस कर रहा था। उसने कहा कि 'इस तरह की चीजें होती रहती हैं', जिसे माननीय अदालत ने गंभीरता से लिया।

घटना के बाद 7 अधिकारी सस्पेंड

गुजरात सरकार ने राजकोट में एक गेमिंग जोन में आग लगने की घटना के संबंध में कर्तव्य में लापरवाही के लिए दो पुलिस इंस्पेक्टरों और राजकोट नगर निगम के कर्मचारियों सहित सात अधिकारियों को सस्पेंड करने का आदेश दिया है। घटना के बाद, वडोदरा के सभी गेमिंग जोन का निरीक्षण किया गया और अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया।