फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News गुजरातराजकोट अग्निकांड में गेमिंग जोन का मालिक समेत 3 गिरफ्तार, 27 मौतों का जिम्मेदार कौन?

राजकोट अग्निकांड में गेमिंग जोन का मालिक समेत 3 गिरफ्तार, 27 मौतों का जिम्मेदार कौन?

राजकोट अग्निकांड गुजरात पुलिस ने गेमिंग जोन के मालिक समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि गेम जोन में भीषण आग लगने से कई बच्चों समेत कम से कम 27 लोगों की मौत हो चुकी है।

राजकोट अग्निकांड में गेमिंग जोन का मालिक समेत 3 गिरफ्तार, 27 मौतों का जिम्मेदार कौन?
Krishna Singhलाइव हिन्दुस्तान,राजकोटSun, 26 May 2024 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

गुजरात के राजकोट में शनिवार शाम को टीआरपी मॉल स्थित गेम जोन में भीषण आग लगने से बच्चों समेत कम से कम 27 लोगों की मौत हो गई। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, गुजरात पुलिस ने गेम जोन के मैनेजर नितिन जैन और गेम जोन के मालिक युवराज सिंह सोलंकी को गिरफ्तार कर लिया है। हादसे की जांच के लिए एसआईटी गठित कर दी गई है। अधिकारियों ने बताया कि गेमिंग गतिविधियों के लिए धातु और फाइबर शीट का उपयोग करके बनाए गए गेमिंग जोन में शाम करीब साढ़े चार बजे आग लगी। इसके बाद छह घंटे से अधिक समय से राहत और बचाव अभियान चला।  

एसआईटी को तुरंत जांच शुरू करने के निर्देश
गुजरात सरकार ने एसआईटी से 72 घंटे के भीतर 9 सूत्री रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है। पांच सदस्यीय एसआईटी को 10 दिनों में विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करनी होगी। एसआईटी के सदस्यों को तुरंत राजकोट जाने के लिए कहा गया है। एसआईटी में सीआईडी ​​क्राइम के अतिरिक्त महानिदेशक सुभाष त्रिवेदी, तकनीकी शिक्षा आयुक्त बंछानिधि पाणि (जो पहले राजकोट के नगर आयुक्त रह चुके हैं), फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला गांधीनगर के निदेशक एचपी संघवी, अहमदाबाद के मुख्य अग्निशमन अधिकारी जेएन खड़िया और सड़क एवं भवन विभाग में अधीक्षक अभियंता एमबी देसाई शामिल हैं।

ऐसे धधकी आग, नहीं दिया बचने का मौका
चश्मदीदों का कहना है कि आग 30 से 40 सेकेंड में पूरे इलाके में फैल गई। यह गेमिंग जोन धातु और फाइबर शीट का उपयोग करके बनाया गया था। तेज हवा के झोंके के बीच भीषण आग के कारण ढांचा जहां तहां से ढह गया। चूंकि घटनास्थल पर कई जगह रिपेयरिंग और रेनोवेशन का काम चल रहा था। इसकी वजह से प्लाइ और लकड़ियों के टुकड़े इधर-उधर बिखरे पड़े थे। आग लगी तो ये भी जल उठे। फाइबर से भी आग तेजी से फैली। हवा इतनी तेज थी कि आग ने पलक झपकते पूरे जोन को अपनी चपेट में ले लिया। लोगों को बचाव का मौका तक नहीं मिला। हादसा तब हुआ जब बच्चों समेत लोग खेल रहे थे।  

बढ़ सकती हैं मृतकों की संख्या
आग लगने के बाद 5 किलोमीटर दूर से धुएं के गुबार को देखा जा रहा था। मृतकों की संख्या और बढ़ सकती है, क्योंकि गेम जोन में लोगों के फंसे होने की आशंका है। पुलिस कमिश्नर राजू भार्गव घटनास्थल पर हैं। 

मृतक के परिजनों को 4 लाख रुपये की मदद
मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल ने कहा कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। घटना की जांच एसआईटी करेगी। मुख्यमंत्री पटेल ने प्रत्येक मृतक के परिजनों को 4 लाख रुपये और प्रत्येक घायल को 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है।

नहीं ली गई थी मंजूरी
शुरुआती जांच में पता चला है कि युवराज सिंह सोलंकी के टीआरपी गेमिंग जोन के लिए अग्निशमन विभाग से कोई अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) नहीं लिया था। आग बुझाने में दमकल और बचाव दल को दो घंटे से अधिक का समय लगा। भीषण आग के कारण ढांचा जहां तहां ध्वस्त हो गया जिससे लोग भीतर ही घिर गए।

मानकों की अनदेखी का आरोप
राजकोट शहर के पुलिस आयुक्त राजू भार्गव ने कहा कि घटना के बाद पुलिस ने कार्रवाई की है। टीआरपी गेम जोन के मालिक और प्रबंधक को पुलिस स्टेशन ले जाया गया। फिर इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। इन पर जरूरी मानकों के उल्लंघन का आरोप है। इस मामले में दमकल विभाग की रिपोर्ट आएगी। एफएसएल की रिपोर्ट में आएगी। सभी रिपोर्टों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।

मृतकों में नौ बच्चे
सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) विनायक पटेल ने बताया कि अभी तक घटना में 25 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। लाशें पूरी तरह से जल चुकी हैं। मृतकों में नौ बच्चे शामिल हैं।

लाशों की पहचान मुश्किल, होगी डीएनए जांच
मृतकों की लाशें इस कदर जल चुकी हैं जिनकी पहचान करना मुश्किल है। वहीं राजकोट के पुलिस आयुक्त राजू भार्गव ने कहा- मृतकों की पहचान के लिए लाशों की डीएनए जांच की जाएगी। रिपोर्ट परिजनों को सौंपी जाएगी। जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

गुजरात के सभी गेम जोन का होगा ऑडिट
राजकोट के पुलिस आयुक्त राजू भार्गव ने बताया कि आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है। शहर के सभी गेमिंग जोन का संचालन बंद करने का संदेश जारी किया गया है। इस घटना के बाद गुजरात के पुलिस महानिदेशक ने पुलिस आयुक्तों और जिला पुलिस अधीक्षकों को गुजरात के सभी गेम जोन का निरीक्षण करने और बिना फायर एनओसी के चल रहे गेम जोन को बंद करने का निर्देश दिया है।

कांग्रेस ने कहा- दोषियों को सख्त सजा दी जाए
कांग्रेस ने कहा कि गुजरात की भाजपा सरकार को इस घटना में जल्द से जल्द जवाबदेही तय करनी चाहिए और दोषियों को सख्त सजा दी जानी चाहिए। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने पार्टी कार्यकर्ताओं से दुर्घटना से प्रभावित लोगों को हर संभव मदद प्रदान करने को कहा है ताकि पीड़ितों को इलाज या मुआवजे को लेकर कोई समस्या न हो।

पीएम मोदी ने जताया दुख
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आग लगने की घटना में लोगों की मौत होने पर दुख व्यक्त किया और गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल से बात कर के बचाव कार्यों के बारे में जानकारी ली। पीएम मोदी ने कहा स्थानीय प्रशासन प्रभावित लोगों की मदद के लिए काम कर रहा है। राजकोट में आग की घटना से हम सभी अत्यंत दुखी हैं। मेरी मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल जी के साथ फोन पर बात हुई। उन्होंने मुझे प्रभावितों को हर संभव मदद के लिए किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी।

अमित शाह ने सीएम से की बात
आग की घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल से बात की और मृतक परिवारों के प्रति संवेदना जताई। उन्होंने कहा- राजकोट के गेम जोन में हुई दुर्घटना से बहुत दुखी हूं। मैंने मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल से बात की है। मैं इस दुखद दुर्घटना में अपने प्रियजनों को खोने वालों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।