फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News गुजरातगोधरा में NEET-UG परीक्षा में धांधली, कहां तक जुड़े तार; पुलिस ने किया चौंकाने वाला खुलासा

गोधरा में NEET-UG परीक्षा में धांधली, कहां तक जुड़े तार; पुलिस ने किया चौंकाने वाला खुलासा

यह घोटाला 5 मई को NEET परीक्षा के दौरान हुआ था। इसमें स्थानीय शिक्षकों और सलाहकारों का प्लान छात्रों को पैसे लेकर पास कराने का था। इस मामले में 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

गोधरा में  NEET-UG परीक्षा में धांधली, कहां तक जुड़े तार; पुलिस ने किया चौंकाने वाला खुलासा
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,गोधराFri, 21 Jun 2024 12:15 PM
ऐप पर पढ़ें

गुजरात पुलिस ने पिछले महीने गोधरा में नीट यूजी परीक्षा को लेकर होने वाली धोखाधड़ी का पर्दाफाश का करते हुए 5 लोगों को गिरफ्तार कि था। इनमें एक स्कूल का प्रिंसिपल भी शामिल था। इन सभी पर आरोप था कि इ पैसों के बदले छात्रों को NEET-UG परीक्षा पास कराने में मदद करने की कोशिश की। छात्रों से कहा गया था कि वह आंसर शीट खाली छोड़ दें, और पेमेंट के हिसाब से जवाब भर दिए जाएंगे। ये मामला उस समय सामने आया जब पहले से ही देश में NEET-UG परीक्षा को लेकर विवाद चल रहा है और छात्र पेपर लीक का आरोप लगा रहे हैं।

इस बीच गुजरात पुलिस ने बताया है कि गोधरा से सामने आया धोखाधड़ी का मामला एक लोकल लेवल ऑपरेशन मालूम पड़ता है। एक अधिकारी ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया है हमारे पास इस बात के कोई सबूत नहीं है कि गोधरा धोखाधड़ी का कनेक्शन दूसरे शहरों या राज्यों से भी है और इसके पीछे किसी बड़े नेटवर्क का हाथ है। उन्होंने कहा, हमारी जांच में अब तक यही सामने आया है कि एक स्थानीय स्तर का मामला था जिसके तार केवल गोधरा तक ही सीमित थे। 

यह घोटाला, 5 मई को NEET परीक्षा के दौरान हुआ था, इसमें स्थानीय शिक्षकों और सलाहकारों का प्लान छात्रों को पैसे लेकर पास कराने का था।  पुलिस ने कहा कि उन्होंने पंचमहल जिला कलेक्टर द्वारा प्राप्त खुफिया जानकारी पर कार्रवाई की, जिससे परीक्षा आयोजित होने से ठीक पहले साजिश का पर्दाफाश हुआ। गिरफ्तार किए गए लोगों में राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी द्वारा नियुक्त फीजिक्स टीचर और परीक्षा के लिए सुपरीटेंडेंट तुषार भट्ट, एक कंसलटेंसी फर्म रॉय ओवरसीज के परशुराम रॉय और जलाराम स्कूल के प्रिंसिपल पुरुषोत्तम शर्मा शामिल हैं जहां परीक्षा आयोजित की गई थी। इसके अलावा छात्रों को रॉय से मिलवाने वाले विभोर आनंद और भट्ट के साथी के रूप में आरोपी स्थानीय निवासी आरिफ वोरा को भी गिरफ्तार किया गया है।

छात्रों से कहा गया था कि आंसर शीट में  उन सवालों के जवाब के लिए जगह खाली छोड़ दें जो उन्हें नहीं आते।  भट्ट बाद में शीर्ष संस्थानों की ऑनलाइन पोस्टिंग से सही उत्तर प्राप्त कर उन्हें भर देगा। इसके लिए छात्रों ने रॉय को पैसे दिए थे।