फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News गुजरातNEET-UG में धांधली का बड़ा पर्दाफाश, टीचर ने ही लिखे जवाब; करोड़ों के चेक के साथ 5 गिरफ्तार

NEET-UG में धांधली का बड़ा पर्दाफाश, टीचर ने ही लिखे जवाब; करोड़ों के चेक के साथ 5 गिरफ्तार

राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट-यूजी) को लेकर चल रहे विवाद के बीच गुजरात के गोधरा से धोखाधड़ी का एक बड़ा मामला सामने आया है। पुलिस ने करोड़ों रुपये के साथ पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।

NEET-UG में धांधली का बड़ा पर्दाफाश, टीचर ने ही लिखे जवाब; करोड़ों के चेक के साथ 5 गिरफ्तार
Subodh Mishraहिन्दुस्तान टाइम्स,गोधराFri, 14 Jun 2024 11:24 PM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट-यूजी) को लेकर चल रहे विवाद के बीच गुजरात के गोधरा से धोखाधड़ी का एक बड़ा मामला सामने आया है। यहां छात्रों को उत्तर पुस्तिकाओं में रिक्त स्थान छोड़ने का निर्देश दिया गया था, जिसे बाद में शिक्षक के द्वारा सही उत्तरों से पूरा किया जाता। इस काम के लिए शिक्षक को मोटी रकम देने का करार किया गया था। पुलिस ने इस मामले में अब तक पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें आरोपी शिक्षक तुषार भट्ट, एजुकेशन कंसल्टेंसी फर्म रॉय ओवरसीज के परशुराम रॉय और गोधरा के जलाराम स्कूल के प्रिंसिपल पुरषोत्तम शर्मा शामिल हैं। इस स्कूल में 5 मई को नीट-यूजी की परीक्षा हुई थी।

गोधरा के एसपी हिमांशु सोलंकी ने बताया कि पंचमहल के जिला कलेक्टर को इस नकल घोटाले की पहले ही भनक लग गई थी। इसको लेकर परीक्षा के दिन जिला शिक्षा अधिकारी मौके पर पहुंचे और शिक्षक तुषार भट्ट के फोन की जांच की तो उसमें 30 छात्रों की सूची मिली। अधिकारियों ने उसकी कार से 7 लाख रुपये नकद भी बरामद किए थे।

इसके बाद पुलिस ने परशुराम रॉय को गिरफ्तार कर लिया, जिसके पास से 2.30 करोड़ रुपये के आठ खाली चेक और चेक का एक और सेट बरामद किया गया। एसपी ने बताया कि कई चेक उन अभिभावकों के थे जिनके बच्चे जलाराम स्कूल में नीट परीक्षा में शामिल हुए थे। रॉय ने ही एनईईटी परीक्षा दे रहे छात्रों को स्कूल के शिक्षक और एनटीए द्वारा नियुक्त परीक्षा उपाधीक्षक तुषार भट्ट से मिलवाया था।

एसपी ने बताया कि योजना के अनुसार जिन छात्रों ने रॉय को पैसे दिए थे उन्हें निर्देश दिया गया था कि वे ओएमआर शीट पर उन प्रश्नों के उत्तर खाली छोड़ दें जिन्हें वे नहीं जानते थे। परीक्षा के बाद जब उत्तर पुस्तिकाओं को सील कर जांच के लिए भेजा जाना था तब भट्ट शीर्ष संस्थानों की ऑनलाइन पोस्ट से अपने मोबाइल फोन में सही उत्तर लेकर उसे छात्रों द्वारा उत्तर पुस्तिका में खाली छोड़े गए जगहों पर भर देता। 
  
मामले में गोधरा पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए अन्य दो आरोपियों में विभोर आनंद शामिल है, जिसने कुछ छात्रों को रॉय से मिलवाया था। इन छात्रों के माता-पिता ने कथित तौर पर नकल में सहायता करने के बदले में नकद की पेशकश की थी। पुलिस के मुताबिक पांचवां गिरफ्तार आरोपी स्थानीय आरिफ वोरा है जो इस घोटाले में भट्ट का साथी था।

उधर, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने अपने एक्स पोस्ट में नीट-यूजी परीक्षा में कथित अनियमितताओं को लेकर  मोदी सरकार की आलोचना की। खरगे ने लिखा, “क्या गुजरात के गोधरा में नीट-यूजी धोखाधड़ी रैकेट का भंडाफोड़ नहीं हुआ है? जिसमें कोचिंग सेंटर चलाने वाला एक व्यक्ति, एक शिक्षक और एक अन्य व्यक्ति सहित तीन लोग शामिल हैं और गुजरात पुलिस के अनुसार आरोपियों के बीच 12 करोड़ रुपये से अधिक के लेनदेन की बात सामने आई है?''