फोटो गैलरी

Hindi News गुजरात'लखपति' भिखारी की 'भूख से मौत', लाश के पास मिले सामान में निकलीं नोटों की गड्डियां

'लखपति' भिखारी की 'भूख से मौत', लाश के पास मिले सामान में निकलीं नोटों की गड्डियां

एक 'लखपति' भिखारी की कथित तौर पर 'भूख से मौत' होने का मामला सामने आया है। अधिकारियों का कहना है कि मौत के वक्त भिखारी के पास 1 लाख रुपये नकद थे, लेकिन कई दिनों तक भूखा रहने के चलते उसकी मौत हो गई।

'लखपति' भिखारी की 'भूख से मौत', लाश के पास मिले सामान में निकलीं नोटों की गड्डियां
Praveen Sharmaवलसाड़। लाइव हिन्दुस्तानTue, 05 Dec 2023 10:14 PM
ऐप पर पढ़ें

गुजरात के वलसाड़ जिले में एक 'लखपति' भिखारी की कथित तौर पर 'भूख से मौत' होने का मामला सामने आया है। अधिकारियों का कहना है कि मौत के वक्त भिखारी के पास 1 लाख रुपये नकद थे, लेकिन कई दिनों तक भूखा रहने के चलते उसकी मौत हो गई। मृतक भिखारी की अभी पहचान नहीं हो सकी है। पुलिस ने उसके पास रखी 500, 200 और 100 रुपये के नोटों की गड्डियों को कब्जे में ले लिया है।

वलसाड पुलिस ने मंगलवार को इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 50 वर्षीय भिखारी बताए जाने वाले एक व्यक्ति को रविवार को जब वलसाड सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया तो उसके पास 1.14 लाख रुपये की नकदी थी। हालांकि, कुछ ही देर बाद उसकी मौत हो गई। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में मौत का कारण भूख बताया गया है। पुलिस अधिकारी इस मामले की गहराई से जांच कर रहे हैं। अभी तक उसकी पहचान की पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन उनकी मौत ने वलसाड पुलिस के सामने कई सवाल खड़े कर दिए हैं।

नेशनल हाईवे पर 'फर्जी टोल प्लाजा' बना कर रहे थे वसूली, फैक्ट्री मालिक सहित 5 पर FIR

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, वलसाड पुलिस के अनुसार, रविवार को एक दुकानदार ने आपातकालीन सेवाओं के लिए 108 नंबर डायल किया। उन्होंने कहा कि एक भिखारी पिछले कुछ दिनों से गांधी पुस्तकालय के पास सड़क किनारे उसी स्थान पर पड़ा हुआ था। दुकानदार ने बताया कि बुजुर्ग व्यक्ति की तबीयत बिगड़ती दिख रही थी। आपातकालीन चिकित्सा तकनीशियन भावेश पटेल और उनकी टीम मौके पर पहुंची और बुजुर्ग व्यक्ति से बात की। प्राथमिक जांच के बाद उसे इलाज के लिए सिविल अस्पताल ले जाया गया।

भावेश पटेल ने कहा, ''वह गुजराती बोल रहा था। उसने बताया कि वह वलसाड के धोबी तालाब इलाके में रहता है। दुकानदार ने हमें बताया कि वह पिछले कुछ दिनों से हिल-डुल भी नहीं रहा था। जब हम उसे सिविल अस्पताल ले गए तो उसके पास 1.14 लाख रुपये की नकदी मिली। नकदी में 500-500 रुपये के 38 नोट, 200 रुपये के 83 नोट, 100 रुपये के 537 नोट और 20 और 10 रुपये के अन्य नोट शामिल हैं। इन सभी नोटों की गड्डी बनाकर छोटे प्लास्टिक बैग में उसके स्वेटर की जेब में लपेट कर रखा गया था, जो हमने चिकित्सा अधिकारी के सामने वलसाड शहर पुलिस को नकदी सौंप दी।

वलसाड सिविल अस्पताल के डॉ. कृष्णा पटेल ने इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए कहा, “जब मरीज को हमारे पास लाया गया, तो उसने चाय मांगी। हमें लगा कि वह भूखा है और उसका ब्लड शुगर लेवल कम हो गया है। हमने सलाइन डाली और इलाज शुरू किया। एक घंटे बाद उसकी मौत हो गई। पिछले कुछ दिनों से उन्होंने कुछ भी नहीं खाया था।”

भिखारी की पहचान की अभी पुष्टि नहीं हो पाई है। पुलिस ने उसके पास से मिली 500, 200 और 100 रुपये के नोटों की गड्डियों में रखी नकदी को कब्जे में ले लिया है।

वलसाड शहर के पुलिस इंस्पेक्टर बीडी जितिया ने कहा कि हमने उसकी तस्वीरें ली हैं और उसकी शिनाख्त कराने के लिए अपनी टीमों को धोबी तालाब इलाके में विभिन्न स्थानों पर भेजा है, लेकिन कोई भी उसे नहीं जानता था। हमने मौत की घटना को रिकॉर्ड कर लिया है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि उनकी मौत भूख के कारण हुई। उन्होंने कहा कि हमने उस दुकानदार का भी बयान लिया, जिसने उस व्यक्ति के बारे में सूचना दी थी। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें