फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News गुजरातगुजरात लोकसभा चुनाव में नए चेहरों का कमाल, 10 लोग पहली बार चुने गए सांसद

गुजरात लोकसभा चुनाव में नए चेहरों का कमाल, 10 लोग पहली बार चुने गए सांसद

गुजरात में लोकसभा की कुल 26 सीटें हैं। इनमें से 25 पर बीजेपी और एक पर कांग्रेस के उम्मीदवार ने जीत दर्ज की है। 10 चेहरे ऐसे हैं, जो पहली बार चुने गए हैं। आइए जानते हैं इनमें से कुछ लोगों के बारे में..

गुजरात लोकसभा चुनाव में नए चेहरों का कमाल, 10 लोग पहली बार चुने गए सांसद
Subodh Mishraलाइव हिन्दुस्तान,अहमदाबादThu, 06 Jun 2024 01:58 PM
ऐप पर पढ़ें

गुजरात में लोकसभा की कुल 26 सीटें हैं। इनमें से 25 पर बीजेपी और एक पर कांग्रेस के उम्मीदवार ने जीत दर्ज की है। इस बार के चुनाव में 10 चेहरे ऐसे हैं, जो पहली बार लोकसभा के लिए चुने गए हैं। आइए जानते हैं इनमें से कुछ प्रमुख लोगों के बारे में...

दिनेशभाई मकवाना, (बीजेपी, अहमदाबाद पश्चिम सीट) 
54 साल के दिनेशभाई मकवाना कानून से स्नातक हैं। वह दलित समुदाय के वनकार ग्रुप से संबंध रखते हैं। पिछले करीब 10 साल से बीजेपी से जुड़े हैं। वह चार बार पार्षद और दो बार डिप्टी मेयर रह चुके हैं। वह अहमदाबाद नगर निगम के लीगल कमिटी के चेयरमैन और जिला भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के अध्यक्ष रह चुके हैं। नामांकन के समय दिए गए हलफनामे के अनुसार वह 14 करोड़ रुपये के संपति के मालिक हैं।

भरतभाई सुतारिया ( बीजेपी, अमरेली सीट)
54 साल के भरतभाई सुतारिया जिला पंचायत के अध्यक्ष हैं। वह लिउवा पाटीदार समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। दसवीं कक्षा तक पढ़े भरतभाई 1991 में बीजेपी से जुड़े थे। वह 2009 से 2011 तक तालुका पंचायत के महासचिव रह चुके हैं। वह तालुका नगर निगम के कार्यवाहक अध्यक्ष भी रह चुके हैं। 

निमुबेन बमभानिया ( बीजेपी, भावनगर सीट)
57 साल के निमुबेन बमभानिया तलपाड़ा कोली समुदाय से संबंध रखती हैं। वह भावनगर नगर निगम के दो तीन बार पार्षद और दो बार मेयर रह चुकी हैं। वह 2000 में बीजेपी से जुड़ीं और 2011 से 2013 तक भाजपा की प्रदेश उपाध्यक्ष रहीं। वह 2013 से 2021 तक प्रदेश भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष रह चुकी हैं। उन्होंने विज्ञान से स्नातक किया है। उन्होंने बीएड की डिग्री भी हासिल कर रखी है।

गनीबेन ठाकोर ( कांग्रेस, बनासकंठा सीट)
48 साल की गनीबेन ठाकोर ने 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार शंकर चौधरी को हराकर राजनीति में अपनी पहचान बनाई। वह 2002 में दोबारा विधानसभा के लिए चुनी गईं। वह अपने समुदाय की नाबालिग लड़कियों के लिए मोबाइल फोन पर प्रतिबंध लगाने की मांग उठाने के लिए भी जानी जाती हैं। उन्होंने विधानसभा में इंटरकास्ट मैरिज पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक प्रस्ताव भी लाया था। उन्होंने 2020 में आर्ट्स से स्नातक की डिग्री हासिल किया।

हरिभाई पटेल ( बीजेपी, मेहसाना सीट)
कदवा पाटीदार समुदाय से संबंध रखने वाले हरिभाई पटेल आर्ट्स से स्नातक हैं। वह मेहसाना जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष रह चुके हैं। वह मेहसाना जिला भाजपा के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।