फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ गुजरातहार्दिक पटेल भाजपा में हुए शामिल, खुद को बताया पीएम नरेंद्र मोदी का 'छोटा सिपाही'

हार्दिक पटेल भाजपा में हुए शामिल, खुद को बताया पीएम नरेंद्र मोदी का 'छोटा सिपाही'

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल भाजपा में शामिल हो गए हैं। गांधीनगर में भाजपा मुख्यालय में उन्हें प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल ने पार्टी की सदस्यता दिलाई है। इस दौरान पाटीदार आंदोलन के कई और नेता शामिल हुए।

हार्दिक पटेल भाजपा में हुए शामिल, खुद को बताया पीएम नरेंद्र मोदी का 'छोटा सिपाही'
Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,गांधी नगरThu, 10 Nov 2022 01:33 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल भाजपा में शामिल हो गए हैं। गांधीनगर में भाजपा मुख्यालय में उन्हें प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल ने पार्टी की सदस्यता दिलाई है। इस दौरान पूर्व डिप्टी सीएम नितिन पटेल समेत कई और सीनियर नेता मौजूद थे। भाजपा में शामिल होने के बाद हार्दिक पटेल ने कहा कि वह अब राष्ट्रहित और प्रदेश हित के साथ अपने राजनीतिक सफर की नई शुरुआत करेंगे। हार्दिक पटेल के साथ पाटीदार आंदोलन में उनके साथी रहे कई और नेता भी भाजपा में शामिल हो गए।

भाजपा में शामिल होने से पहले हार्दिक पटेल ने घर पर पूजा-पाठ किया। उन्होंने कहा कि यह मेरे लिए एक नई शुरुआत होगी। आज सुबह ही उन्होंने ट्वीट किया था, 'राष्ट्रहित, प्रदेशहित, जनहित एवं समाज हित की भावनाओं के साथ आज से नए अध्याय का प्रारंभ करने जा रहा हूं। भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी जी के नेतृत्व में चल रहे राष्ट्र सेवा के भगीरथ कार्य में छोटा सा सिपाही बनकर काम करूँगा।' हार्दिक पटेल तीन सालों तक कांग्रेस में रहे थे, लेकिन खुद की उपेक्षा किए जाने और युवाओं को आगे न बढ़ाने का आरोप लगाते हुए 18 मई को पार्टी से इस्तीफा दे दिया था।

गुजरात में पाटीदार समाज का 50 से 55 सीटों पर असर है। कुल 182 सीटों वाली गुजरात विधानसभा में यह आंकड़ा बहुत बड़ा है और हार्दिक पटेल इन सीटों पर भाजपा को फायदा पहुंचा सकते हैं। यही नहीं भाजपा में शामिल होने से पहले ही उन्होंने ऐलान किया था कि वह पूरे गुजरात में एक अभियान चलाएंगे और हर 10 दिन बाद लोगों से कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आने की अपील करेंगे। 2015 में पाटीदार आरक्षण आंदोलन से चर्चित हुए हार्दिक पटेल युवाओं के बीच भी पकड़ रखने वाले शख्स माने जाते हैं। यही वजह है कि कांग्रेस ने उनके पार्टी में आते ही उन्हें प्रदेश का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त कर दिया था।