फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News गुजरातराजकोट गेमिंग जोन अग्निकांड का पूरा सच आएगा बाहर? गुजरात सरकार ने बनाई फैक्ट फाइंडिंग कमेटी

राजकोट गेमिंग जोन अग्निकांड का पूरा सच आएगा बाहर? गुजरात सरकार ने बनाई फैक्ट फाइंडिंग कमेटी

गुजरात सरकार ने 25 मई को राजकोट गेमिंग जोन में लगी आग की घटना में अधिकारियों की भूमिका की जांच के लिए ती सदस्यीय एक फैक्ट फाइंडिंग कमेटी का गठन किया है। इस घटना में 27 लोगों की मौत हो गई थी।

राजकोट गेमिंग जोन अग्निकांड का पूरा सच आएगा बाहर? गुजरात सरकार ने बनाई फैक्ट फाइंडिंग कमेटी
fire in rajkot
Praveen Sharmaअहमदाबाद। पीटीआईTue, 18 Jun 2024 02:31 PM
ऐप पर पढ़ें

गुजरात सरकार ने 25 मई को राजकोट गेमिंग जोन में लगी आग की घटना में अधिकारियों की भूमिका की जांच के लिए ती सदस्यीय एक फैक्ट फाइंडिंग कमेटी का गठन किया है। इस घटना में 27 लोगों की मौत हो गई थी। सरकार की ओर से यह घोषणा गुजरात हाईकोर्ट द्वारा गेमिंग जोन में लगी आग की घटना की चल रही जांच पर नाराजगी जताए जाने के कुछ दिनों बाद की गई है।

गुजरात में शहरी विकास और शहरी आवास विभाग के प्रमुख सचिव अश्वनी कुमार ने सोमवार को इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस कमेटी में आईएएस अधिकारी मनीषा चंद्रा (ग्रामीण विकास आयुक्त), पी. स्वरूप (भूमि सुधार आयुक्त) और राजकुमार बेनीवाल (उपाध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, गुजरात मैरीटाइम बोर्ड) शामिल हैं। 

6 सरकारी कर्मचारियों सहित अब तक 12 लोग गिरफ्तार

बता दें कि, राजकोट नगर निगम के दो कर्मचारियों को गेमिंग जोन में लगी आग की घटना के बाद उससे संबंधित दस्तावेजों में छेड़छाड़ करने के आरोप में 16 जून को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने बताया कि अब तक इस मामले में छह सरकारी कर्मचारियों सहित 12 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

डीसीपी क्राइम पार्थराजसिंह गोहिल ने बताया था कि क्राइम ब्रांच ने शनिवार को राजकोट नगर निगम के सहायक नगर योजना अधिकारी राजेश मकवाना और सहायक अभियंता जयदीप चौधरी को आग की घटना के बाद आधिकारिक रजिस्टर में छेड़छाड़ करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। उन्होंने कहा कि आग की घटना के बाद उन्होंने टीआरपी गेमिंग जोन से जुड़े सरकारी दस्तावेजों में कुछ छेड़छाड़ की। उन्होंने जाली दस्तावेज भी बनाए। 

गोहिल ने कहा था कि इस मामले में अब तक हम छह सरकारी कर्मचारियों और छह अन्य लोगों को गिरफ्तार कर चुके हैं। इससे पहले जिन चार सरकारी कर्मचारियों को गिरफ्तार किया गया था उनमें राजकोट के नगर योजना अधिकारी एम.डी सागथिया, सहायक नगर योजना अधिकारी मुकेश मकवाना और गौतम जोशी तथा कलावड रोड दमकल केंद्र के पूर्व अधिकारी रोहित विगोरा शामिल हैं। 

पुलिस के मुताबिक, राजकोट नगर निगम के अग्निशमन विभाग से अग्नि सुरक्षा संबंधी एनओसी के बिना ही इस गेमिंग जोन का संचालन किया जा रहा था।