फोटो गैलरी

Hindi News गुजरातछुट्टी के लिए सगाई का बहाना, पकड़े जाने पर सब-इंस्पेक्टर की नौकरी गई, कैसे खुली पोल?

छुट्टी के लिए सगाई का बहाना, पकड़े जाने पर सब-इंस्पेक्टर की नौकरी गई, कैसे खुली पोल?

गुजरात में एक पुलिस सब-इंस्पेक्टर छुट्टी लेने के लिए इस कदर बेचैन था कि उसने अपनी शादी का बहाना बनाया। उसने सगाई होने की बात कह कर छुट्टी ली साथ में एक फेक इन्विटेशन कार्ड अटैच कर दिया। फिर क्या हुआ?

छुट्टी के लिए सगाई का बहाना, पकड़े जाने पर सब-इंस्पेक्टर की नौकरी गई, कैसे खुली पोल?
Krishna Singhलाइव हिन्दुस्तान,अहमदाबादMon, 12 Feb 2024 08:09 PM
ऐप पर पढ़ें

छुट्टियों के लिए कर्मचारियों द्वारा तरह-तरह के हथकंडे अपनाए जाने की खबरें आती रहती हैं। ताजा मामला गुजरात से सामने आया है जिसमें एक पुलिस अधिकारी ने छुट्टी के लिए अपनी सगाई होने का झूठ बोला। बताया जाता है कि कराई पुलिस तालीम संस्था में ट्रेनी PSI मुन्नाभाई हमीरभाई आल ने छुट्टी लेने के लिए नकली इनविटेशन कार्ड तक छपवा दिया। उन्होंने नकली कार्ड को अपनी लीव रिपोर्ट के साथ जोड़ दिया। सच सामने आने पर ट्रेनी PSI को नौकरी से हाथ धोना पड़ा है। 

बताया जाता है कि गुजरात की कराई पुलिस इंस्टिट्यूट में 2023 बैच के मुन्नाभाई हमीरभाई आल PSI की ट्रेनिंग ले रहे थे। बनासकांठा में पालनपुर के सांग्रा गांव के रहने वाले 29 वर्षीय मुन्नाभाई हमीरभाई आल को छुट्टी पर जाने का मन हुआ। ट्रेनिंग चल रही थी इसलिए छुट्टी लेना बड़ा टेढ़ा काम था। इसके लिए मुन्नाभाई अपनी शादी होने का बहाना मारा। उन्होंने गांव में सगाई और भोज आयोजन की वजह बताकर छुट्टी मांगी। उन्होंने इसके लिए बाकायदा इनविटेशन कार्ड तक छपवाया। 

मुन्नाभाई हमीरभाई आल ने इस फर्जी कार्ड को अपनी छुट्टी रिपोर्ट में जोड़ दिया। यहीं उनसे गलती हो गई। यह आवेदन आला अधिकारियों के पास पहुंचा। अधिकारियों की बारीक नजर जब कार्ड पर पड़ी तो एक जगह ठिठक गई। उन्होंने पाया कि लड़की का नाम निमी तो छपा था लेकिन उसके माता पिता का नाम और पते का कोई जिक्र नहीं था। इसके बाद गुजरात पुलिस अकादमी ने मुन्नाभाई हमीरभाई आल के इस कार्ड की छानबीन कराने का फैसला किया। 

जब इनविटेशन कार्ड की सच्चाई सामने आई तो मुन्नाभाई हमीरभाई आल से पूछताछ शुरू हुई। पूछताछ में पीएसआई मुन्नाभाई हमीरभाई आल ने झूठ कुबूल कर लिया। उन्होंने बताया कि अहमदाबाद के उनके एक मित्र चिराग पंचाल ने सगाई का यह झूठा कार्ड बनाया था। पुलिस अधिकारियों ने जांच में पाया कि मुन्नाभाई हमीरभाई आल ने अनिवार्य ट्रेनिंग से बचने के लिए ऐसा किया था। जांच में यह भी पाया गया कि उन पर पहले से अनुसाशनहीनता के 17 केस दर्ज थे। इस पर अधिकारियों ने उन्हें नौकरी से निकाल दिया। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें