फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News गुजरात'महाराज' फिल्म की ओटीटी रिलीज पर गुजरात हाईकोर्ट करेगा फैसला, अंतरिम रोक बढ़ाई

'महाराज' फिल्म की ओटीटी रिलीज पर गुजरात हाईकोर्ट करेगा फैसला, अंतरिम रोक बढ़ाई

गुजरात हाईकोर्ट (Gujarat High Court) ने बुधवार को फैसला किया कि वह बॉलीवुड स्टार आमिर खान के बेटे जुनैद की पहली फिल्म 'महाराज' देखने या नहीं देखने के बारे में फैसला करेगा। पढ़ें यह रिपोर्ट...

'महाराज' फिल्म की ओटीटी रिलीज पर गुजरात हाईकोर्ट करेगा फैसला, अंतरिम रोक बढ़ाई
maharaj film on ott netflix
Krishna Singhभाषा,नई दिल्लीWed, 19 Jun 2024 11:49 PM
ऐप पर पढ़ें

गुजरात हाईकोर्ट ने बुधवार को कहा कि वह बॉलीवुड स्टार आमिर खान के बेटे जुनैद की पहली फिल्म 'महाराज' को देखने या नहीं देखने पर फैसला देगा। इसके साथ ही न्यायमूर्ति संगीता विशेन की अदालत ने फिल्म की रिलीज पर लगाई अंतरिम रोक एक दिन के लिए और बढ़ा दी। मामले की सुनवाई के लिए बृहस्पतिवार की तारीख दी गई है।

अदालत ने कहा कि हम कथित तौर पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स पर फिल्म की रिलीज के खिलाफ याचिका पर फैसला करेंगे। वहीं फिल्म के निर्माता यशराज फिल्म्स (वाईआरएफ) ने फिल्म देखने के लिए अदालत को लिंक और पासवर्ड प्रदान करने की पेशकश की, ताकि तय किया जा सके कि यह किसी विशेष समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाती है या नहीं। 

पुष्टिमार्ग संप्रदाय के सदस्यों ने फिल्म के बारे में लेख पढ़ने के बाद रिलीज के खिलाफ याचिका दायर की है। याचिकाकर्ताओं का कहना है कि मानहानि के मामले में फैसला सुनाने वाली ब्रिटिशकालीन अदालत ने हिंदू धर्म की निंदा की है। यही नहीं ब्रिटिश अदालत ने भगवान कृष्ण के भक्ति गीतों और भजनों के खिलाफ गंभीर रूप से ईशनिंदा वाली टिप्पणियां की है। 

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि फिल्म देखने या नहीं देखने का फैसला अदालत के पास होगा। न्यायमूर्ति विशन ने कहा कि (फिल्म देखना) संबंधित पक्षों के वकीलों की दलीलों से इतर होगा। याचिकाकर्ताओं की ओर से पेश अधिवक्ता मिहिर जोशी ने कहा कि उन्हें इस बात से कोई दिक्कत नहीं है कि अदालत याचिका पर निर्णय लेने के लिए फिल्म देखे। 

याचिकाकर्ताओं ने दावा किया है कि अगर फिल्म को रिलीज करने की अनुमति दी गई तो उनकी धार्मिक भावनाओं को गंभीर रूप से ठेस पहुंचेगी। याचिकाकर्ताओं का कहना है कि इससे सार्वजनिक व्यवस्था प्रभावित होने और संप्रदाय के अनुयायियों के खिलाफ हिंसा भड़कने की संभावना है।