फोटो गैलरी

Hindi News गुजरातराम मंदिर निर्माण के लिए PM मोदी की सराहना, प्रस्ताव पारित, AAP-कांग्रेस सबने दिया साथ

राम मंदिर निर्माण के लिए PM मोदी की सराहना, प्रस्ताव पारित, AAP-कांग्रेस सबने दिया साथ

भाजपा शासित गुजरात विधानसभा में सोमवार को अयोध्या राम मंदिर के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सराहना करने वाला एक प्रस्ताव पारित किया गया। विपक्षी कांग्रेस और AAP सदस्यों ने भी इसे समर्थन दिया।

राम मंदिर निर्माण के लिए PM मोदी की सराहना, प्रस्ताव पारित, AAP-कांग्रेस सबने दिया साथ
Krishna Singhभाषा,गांधीनगरTue, 06 Feb 2024 12:08 AM
ऐप पर पढ़ें

भाजपा शासित गुजरात विधानसभा में सोमवार को बजट सत्र के दौरान अयोध्या में नए राम मंदिर के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सराहना करने वाला एक प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया। मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल द्वारा पेश किया गया प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया क्योंकि भाजपा विधायकों के अलावा, विपक्षी कांग्रेस के सदस्यों के साथ AAP के सदस्यों ने भी इसे अपना समर्थन दिया।

इस प्रस्ताव का समर्थन करते हुए, वरिष्ठ कांग्रेस विधायक अर्जुन मोढवाडिया ने कहा कि यह तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ही थे, जिन्होंने 1989 में उस स्थान पर शिलान्यास समारोह की अनुमति दी थी जहां आज मंदिर बना है।

आम आदमी पार्टी के उमेश मकवाना ने भी भाजपा के प्रस्ताव का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि मंदिर के परिसर में एक अस्पताल और एक कॉलेज भी बनाया जाना चाहिए, जहां 22 जनवरी को मोदी के नेतृत्व में एक समारोह में राम लला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की गई थी।

गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि वह एक ऐतिहासिक संकल्प लेकर खुश और गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। पीएम मोदी के प्रयासों के कारण जो हिंदू राम मंदिर के लिए 500 वर्षों से इंतजार कर रहे थे, अयोध्या में राम लला को भव्य मंदिर में प्रतिष्ठित करने में सक्षम हुए। यह गुजरात के लोगों के लिए गर्व और सम्मान का क्षण था। यह नरेंद्रभाई ही थे जो सोमनाथ से अयोध्या तक ऐतिहासिक रथ यात्रा के 'सारथी' (सारथी) भी थे। 

सीएम ने कहा कि आक्रमणकारियों और विदेशी शासनों ने भारत की संस्कृति और परंपराओं को नष्ट कर दिया, लेकिन सदियों से लाखों भक्तों द्वारा किए गए बलिदान के कारण लोग संवैधानिक तरीकों से अयोध्या में राम मंदिर का पुनर्निर्माण करने में कामयाब रहे। एक तपस्वी ऋषि की तरह पीएम मोदी ने अभिषेक समारोह से पहले तीन दिन के बजाय 11 दिनों का अनुष्ठान (विशेष अनुष्ठान जिसमें उपवास भी शामिल था) किया। भारत के करोड़ों लोगों को प्रधानमंत्री की भक्ति पर गर्व है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें