फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News गुजरात3 हजार टीचर्स को ट्रेनिंग, गुजरात के 600 स्कूलों में गीता से होगी सुबह की शुरुआत; स्टूडेंट्स को क्या-क्या फायदे

3 हजार टीचर्स को ट्रेनिंग, गुजरात के 600 स्कूलों में गीता से होगी सुबह की शुरुआत; स्टूडेंट्स को क्या-क्या फायदे

गुजरात के अहमदाबाद जिले के 600 स्कूलों में सुबह की प्रर्थना सभा में आवश्यक रूप से छात्र गीता के श्लोकों का पाठ करेंगे। कुछ महीने पहले राज्य विधानसभा ने इसे लेकर प्रस्ताव पास किया था।

3 हजार टीचर्स को ट्रेनिंग, गुजरात के 600 स्कूलों में गीता से होगी सुबह की शुरुआत; स्टूडेंट्स को क्या-क्या फायदे
Sneha Baluniलाइव हिन्दुस्तान,अहमदाबादWed, 19 Jun 2024 09:35 AM
ऐप पर पढ़ें

गुजरात विधानसभा में कुछ महीने पहले एक प्रस्ताव पेश किया गया जिसमें सरकारी स्कूलों में भगवद गीता को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाने की मांग रखी गई। अब अहमदाबाद के 600 से ज्यादा स्कूल हिंदू धर्मग्रंथ महाभारत से पढ़ाई की दिशा में कदम उठाने जा रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि गीता के श्लोकों पर आधारित वीडियो लेसन (पाठ) इस हफ्ते से इन स्कूलों में सुबह की असेंबली का जरूरी हिस्सा बन जाएंगे।

गुजरात के शिक्षा मंत्री प्रफुल पनशेरिया ने मंगलवार को अहमदाबाद में एक कार्यक्रम में ‘विद्यार्थी जीवन पथदर्शक बने श्रीमद्भगवद्गीता’ नाम की एक  परियोजना शुरू की। इस योजना की शुरुआत ऐसे समय पर हुई है जब इस साल की शुरुआत में 7 फरवरी को पनशेरिया ने बजट सत्र के दौरान विधानसभा में एक प्रस्ताव पेश किया था, जिसमें जून से कक्षा 6 से 12 तक के सरकारी स्कूलों में भगवद् गीता को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाने का प्रस्ताव दिया था।

गुजरात शिक्षा विभाग के इस फैसले को लागू करने के लिए अहमदाबाद जिला शिक्षा कार्यालय (ग्रामीण) ने ऑडियोविजुअल लेसन तैयार किए हैं। इन्हें शहर के 650 माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में पढ़ाया जाएगा। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, अहमदाबाद ग्रामीण के डीईओ कृपा झा ने कहा, 'अहमदाबाद के 600 से ज्यादा स्कूलों में सुबह की असेंबली में इन वीडियो आवश्यक रूप से शामिल किया जाएगा। हर हफ्ते एक श्लोक या एक वीडियो लिया जाएगा। लॉन्च के एक या दो दिन बाद सभी स्कूलों को इसके लिए सर्कुलर जारी कर दिया जाएगा। यह कदम राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 और राज्य सरकार की पहल के तहत उठाया गया है।'

गुजरात राज्य स्कूल पाठ्यपुस्तक बोर्ड (जीएसएसटीबी) के निदेशक वीआर गोसाई ने कहा, 'भगवद् गीता के राज्यव्यापी कार्यान्वयन के लिए शिक्षा विभाग ने राज्य बोर्ड स्कूलों के लिए कक्षा 6 से 12 तक गुजराती फर्स्ट लैंग्वेज पाठ्यक्रम के एक हिस्से के तौर पर कहानियों के रूप में दो चैप्टर शामिल किए हैं, जबकि गैर राज्य बोर्ड स्कूलों के लिए एक अलग लिटरेटर तैयार किया गया है।'

अधिकारियों ने बताया कि भगवद्गीता के 51 श्लोकों के जरिए चरित्र निर्माण, ध्यान भटकाने वाले तत्वों पर नियंत्रण, तनाव प्रबंधन (स्ट्रेस मैनेजमेंट) और भोजन प्रबंधन (फूड मैनेजमेंट) जैसे आधुनिक जीवनशैली से जुड़ी चुनौतियों से जुड़े अन्य पहलुओं को, वीडियो लेसन और व्यवहार संबंधी साप्ताहिक असाइनमेंट के जरिए छात्रों को सिखाया जाएगा। इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत इस हफ्ते 3,000 से ज्यादा शिक्षकों की ट्रेनिंग शुरू होने वाली है।