फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News गुजरातराजकोट गेमिंग जोन मामले में छह लोगों पर केस दर्ज, 2 गिरफ्तार, 4 की तलाश 

राजकोट गेमिंग जोन मामले में छह लोगों पर केस दर्ज, 2 गिरफ्तार, 4 की तलाश 

राजकोट गेमिंग जोन में आग लगने की घटना की जांच लगातार जारी है। राजकोट के पुलिस कमिश्नर ने बताया कि इस मामले में छह लोगों पर केस दर्ज किया गया है। दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

राजकोट गेमिंग जोन मामले में छह लोगों पर केस दर्ज, 2 गिरफ्तार, 4 की तलाश 
Subodh Mishraलाइव हिन्दुस्तान,राजकोटSun, 26 May 2024 05:38 PM
ऐप पर पढ़ें

राजकोट गेमिंग जोन में आग लगने की घटना की जांच लगातार जारी है। राजकोट के पुलिस कमिश्नर राजू भार्गव ने बताया कि इस मामले में छह लोगों पर केस दर्ज किया गया है। इन पर आईपीसी की धारा 304, 308, 337, 338 और 114 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस कमिश्नर राजू भार्गव ने बताया कि इस घटना के संबंध में दो आरिपयों को गिरफ्तार किया गया है। इस केस पर क्राइम ब्रांच की टीम काम कर रही है। गांधीनगर से एक एफएसएल टीम भी सबूत इकट्ठा करने के लिए साइट पर है।उन्होंने बताया कि बाकी चार आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए क्राइम बांच की टीम लगी हुई है। बाकी आरोपियों को भी जल्द से जल्द पकड़ने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने बताया कि हमरी कोशिश है कि जल्द से जल्द इस मामले की जांच पूरी कर आरोपपत्र दायर कर दिया जाए।

राजकोट के गेमिंग जोन में भीषण आग लगने की घटना की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, नए-नए खुलासे सामने आ रहे हैं। पता चला है कि गेम जोन बिना फायर लाइसेंस के चल रहा था और निकलने के लिए भी सिर्फ एक ही गेट था। एक ही गेट होने के कारण हादसे के बाद बहुत सारे लोग बाहर नहीं निकल सके। 

बचाव कार्यों की निगरानी के लिए घटनास्थल पर पहुंची राजकोट की मेयर नयना पेधादिया ने भी फायर एनओसी नहीं होने की बात कही है। पेधादिया ने कहा, "हम जांच करेंगे कि इतना बड़ा गेम जोन बिना फायर एनओसी के कैसे काम कर रहा था। हम इसका परिणाम देख रहे हैं। इस मुद्दे पर किसी को भी राजनीति करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।" उन्होंने बताया कि यहां से निकलने का केवल एक आपातकालीन गेट था, जिससे आग लगने के बाद अफरा-तफरी मच गई।

राजकोट के अग्निशमन अधिकारी इलेश खेर ने कहा कि प्रवेश द्वार के पास एक अस्थायी संरचना ढह जाने से लोग फंस गए, जिससे उनका बाहर निकलना मुश्किल हो गया। अग्निकांड के मद्देनजर राज्य के पुलिस महानिदेशक ने पुलिस आयुक्तों और पुलिस अधीक्षकों को गुजरात के सभी गेमिंग जोन का निरीक्षण करने और फायर एनओसी के बिना चल रहे गेमिंग जोन को बंद करने के निर्देश दिए हैं।