फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News गुजरातसाबरमती जेल में फोन से लैंड डील करता था अतीक, AIMIM की टिकट से चुनाव लड़ने वाले ने की मदद; रिपोर्ट में दावा

साबरमती जेल में फोन से लैंड डील करता था अतीक, AIMIM की टिकट से चुनाव लड़ने वाले ने की मदद; रिपोर्ट में दावा

नाम ना बताने की शर्त पर सूत्र ने न्यूज वेबसाइट को बताया है कि माफिया अतीक अहमद साबरमती जेल में कई मोबाइल नंबरों का इस्तेमाल किया करा था। उसे अल्ताफ पठान नाम का एक शख्स सहयोग कर रहा था।

atiq ahmed
1/ 2atiq ahmed
atiq ahmed, File Photo
2/ 2atiq ahmed, File Photo
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,अहमदाबादTue, 25 Apr 2023 04:39 PM
ऐप पर पढ़ें

माफिया अतीक अहमद की मौत के बाद अब ऐसा लगने लगा है कि कई सारे राज भी अब उसके साथ ही दफन हो गए हैं। कई नई बातों का खुलासा भी हो रहा है जिससे यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि कई रहस्य अभी खुलने बाकी हैं। इनमें से एक राज यह भी है कि साबरमती जेल में अतीक किस वजह से फोन का इस्तेमाल करता था। गुजरात के साबरमती जेल में कैद रहने के दौरान अतीक के फोन इस्तेमाल करने को लेकर काफी चर्चा हो रही है। 

'Times Of India' ने अपनी एक रिपोर्ट में पुलिस सूत्रों के हवाले से बताया है कि अतीक अहमद, एक वरिष्ठ राजनेता और एक पुलिस मुखबिर की नजर अहमदाबाद में एक लैंड डील पर थी। नाम ना बताने की शर्त पर सूत्र ने न्यूज वेबसाइट को बताया है कि अतीक अहमद साबरमती जेल में कई मोबाइल नंबरों का इस्तेमाल किया करा था। उसे अल्ताफ पठान नाम का एक शख्स सहयोग कर रहा था। यह शख्स बापूनगर का रहने वाला था। अल्ताफ एक पुलिस मुखिबर था और उसने दो बार निकाय चुनाव भी लड़ा था। इसके अलावा उसने AIMIM और समाजवादी पार्टी के टिकट पर विधानसभा चुनाव भी लड़ा था।

अतीक अहमद बापूनगर में एक टेक्सटाइल मिल की जमीन में दिलचस्पी रखता था। इसलिए अतीक, पठान और उस राजनेता ने रियल स्टेट से जुड़े कारोबारियों को वो जमीन खरीदने के लिए कहा था। दावा यह भी किया जा रहा है कि अतीक अहमद के एक खास गुर्गे मेहराज ने अतीक को जेल में ऐश-ओ-आराम की चीजें मुहैया कराने में मदद की थी।

पठान ने अतीक को जेल में एक फोन दिया था जिसका इस्तेमाल उसने मार्च के महीने तक किया था। हालांकि, जब प्रशासन ने गुजरात के जेलों में छापेमारी की तब यह फोन जेल से बाहर निकाल दिया था। सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट में यह भी बताया जा रहा है कि पठान दुबई भाग गया है। अहमद और उसके भाई की प्रयागराज में हुई हत्या से पहले ही वो दुबई भाग गया था।