DA Image
हिंदी न्यूज़ › गैजेट्स › Zomato दे रहा है आपको 3 लाख रुपये जीतने का मौका, बस करना होगा ये काम
गैजेट्स

Zomato दे रहा है आपको 3 लाख रुपये जीतने का मौका, बस करना होगा ये काम

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्ली Published By: Himani Gupta
Fri, 09 Jul 2021 02:04 PM
Zomato दे रहा है आपको 3 लाख रुपये जीतने का मौका, बस करना होगा ये काम

फूड डिलिवरी कंपनी Zomato जल्द IPO लॉन्च करने वाली है। आईपीओ की वजह से चर्चा में चल रही फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म ने गुरूवार को अपने बग बाउंटी प्रोग्राम पर इनाम बढ़ाया है। अगर कोई व्यक्ति Zomato के ऐप या वेबसाइट में किसी तरीक़े के बग (Bug) का पता लगा लेता है तो वह $4,000 (यानी लगभग 3 लाख) तक जीत सकता है। कंपनी ने HackerOne पर उपलब्ध एक बयान में कहा कि Zomato का बग बाउंटी प्रोग्राम हमारे सुरक्षा प्रयासों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और हमें उम्मीद है कि रिवार्ड को बढ़ाना हैकर ग्रुप्स को और प्रेरित करेगा।

 

इस बयान को Zomato के एक सुरक्षा इंजीनियर यश सोधा ने ट्वीट किया था। सोधा ने ट्वीट किया कि आज से हम Zomato के बग बाउंटी प्रोग्राम के लिए पुरस्कार बढ़ा रहे हैं: क्रिटिकल बग ढूंढने वाले को $4,000 और उच्च बग के लिए $2000, और इसी तरह अन्य बग के लिए उसी हिसाब से पैसे मिलेंगे।

 

ये भी पढ़ें:- 26 जुलाई को शुरू होगी Amazon की सबसे बड़ी सेल, 300 से ज्यादा प्रोडक्ट्स पर मिलेगी जबरदस्त छूट

 

इनाम के लिए तय किए ये पैरामीटर  
Zomato की सुरक्षा टीम कॉमन वल्नरेबिलिटी स्कोरिंग सिस्टम (CVSS) का इस्तेमाल करके नुकसान की गंभीरता का फैसला करेगी। जिसके आधार पर अंतिम इनाम की गणना की जाएगी। खतरा जितना अधिक गंभीर होगी, हैकर को उतना ही अधिक इनाम मिलेगा। Zomato ने खतरों को लो, मीडियम, क्रिटिकल और उच्च कैटेगरी में डिवाइड किया है। CVSS 10.0 के साथ अगर खतरा क्रिटिकल होगा तो यूजर को $4,000 का पुरस्कार दिया जाएगा। वहीं CVSS 9.5 के साथ खतरने के बारे में पता लगाने के लिए यूजर को $3,000 से सम्मानित किया जाएगा। 

 

ये भी पढ़ें:- BSNL के ग्राहकों को बड़ी खुशखबरी, अब 50 रुपये से कम खर्च कर पाएं 10GB डेटा, फ्री कॉलिंग और SMS का फायदा

 

Zomato के बग बाउंटी प्रोग्राम में भाग लेने के लिए टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन इनेबल्ड करना होगा।  बग बाउंटी हंटर्स ज्यादातर प्रमाणित साइबर सिक्योरिटी पेशेवर या सिक्योरिटी रिसर्चर्स होते हैं जो वेब को क्रॉल करते हैं और बग या खामियों के लिए सिस्टम को स्कैन करते हैं जिसके माध्यम से हैकर्स कंपनियों में घुसकर उन्हें सचेत कर सकते हैं।

संबंधित खबरें