फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ गैजेट्सदूसरे देशों में सस्ते तो भारत में महंगे क्यों हैं आईफोन? क्या सरकार है जिम्मेदार?

दूसरे देशों में सस्ते तो भारत में महंगे क्यों हैं आईफोन? क्या सरकार है जिम्मेदार?

Apple iPhone मॉडल्स भारत में दूसरे देशों के मुकाबले महंगे मिलते हैं और iPhone 14 सीरीज के साथ भी ऐसा ही देखने को मिला है। ऐसा ज्यादा इंपोर्ट ड्यूटी, दूसरी फीस और GST लगने के चलते होता है।

दूसरे देशों में सस्ते तो भारत में महंगे क्यों हैं आईफोन? क्या सरकार है जिम्मेदार?
Pranesh Tiwariलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीThu, 08 Sep 2022 10:34 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

टेक कंपनी Apple ने अपनी नई iPhone 14 सीरीज लॉन्च कर दी है और भारत में इसकी कीमत भी सामने आई है। हर बार की तरह इस साल भी अमेरिका और भारत में आईफोन मॉडल्स की कीमत में बड़ा अंतर है। अमेरिका में जो मॉडल करीब 64,000 रुपये में मिलेगा, भारत में उसे खरीदने के लिए ग्राहकों को करीब 80,000 रुपये का भुगतान करना होगा। महंगे मॉडल्स के साथ कीमत में यह अंतर बढ़ता जाता है।

आईफोन 14 सीरीज की शुरुआती कीमत अमेरिका में 799 डॉलर (करीब 63,700 रुपये) रखी गई है। वहीं, भारत में इसे 79,900 रुपये की शुरुआती कीमत पर उतारा गया है। इसी तरह आईफोन 14 प्लस की कीमत अमेरिका में 899 डॉलर (करीब 71,600 रुपये) है और भारत में इसे 89,900 रुपये की शुरुआती कीमत पर खरीदा जा सकेगा।

प्रो मॉडल्स की बात करें तो अमेरिका में आईफोन 14 प्रो की कीमत 999 डॉलर (करीब 79,555 रुपये) से शुरू है। वहीं, भारत में ग्राहक इसे 1,29,900 रुपये की शुरुआती कीमत पर खरीद पाएंगे। आईफोन 14 प्रो मैक्स की शुरुआती कीमत अमेरिका में 1,099 डॉलर (करीब 87,530 रुपये) तो वहीं भारत में 1,39,900 रुपये है। इस तरह अमेरिका और भारत में आईफोन मॉडल्स की कीमत में 40,000 रुपये तक का अंतर है।

Apple iPhone 14 सीरीज की धमाकेदार एंट्री, जबर्दस्त फीचर्स के साथ आए कंपनी के नए फोन

भारत में महंगे क्यों बिकते हैं आईफोन मॉडल्स

दूसरे देशों के मुकाबले भारत में आईफोन मॉडल्स की कीमत करीब 40 प्रतिशत तक ज्यादा रखी जाती है। एक्सपर्ट्स की मानें तो इसके लिए देश में आईफोन का आयात करने पर लगने वाली इंपोर्ट ड्यूटी, 18 प्रतिशत GST, दूसरी फीस और कंपनी का खुद का प्रॉफिट मार्जिन जिम्मेदार है। यानी कि सरकार की ओर से लगाए गए टैक्स और ड्यूटी के चलते भारत में आईफोन्स के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ती है।

सरकार क्यों लगाती है ज्यादा इंपोर्ट ड्यूटी?

सरकार की ओर से डिवाइसेज पर ज्यादा इंपोर्ट ड्यूटी लगाने की वजह इनकी भारत में मैन्युफैक्चरिंग से जुड़ी है। भारत सरकार चाहती है कि कंपनियां अपने डिवाइसेज कहीं और मैन्युफैक्चर कर भारत में मंगवाने के बजाय भारत में ही मैन्युफैक्चर करें। बने-बनाए डिवाइसेज के मुकाबले उनके कंपोनेंट्स पर कम इंपोर्ट ड्यूटी लगती है, जिसके चलते ढेरों विदेशी कंपनियों भारत में अपने  फोन बना रही हैं।

शानदार फीचर्स के साथ आई Apple Watch Series 8, नए एयरपॉड्स भी लॉन्च

भारत में बनाए जाएंगे नए आईफोन मॉडल्स

सामने आया है कि ऐपल पिछले कुछ मॉडल्स की तरह ही आईफोन 14 की मैन्युफैक्चरिंग भी भारत में कर सकती है। भारत में दीपावली से आईफोन 14 का प्रोडक्शन शुरू हो सकता है और यहां बनने वाले आईफोन मॉडल्स दूसरे मार्केट्स में भी बिक्री के लिए भेजे जाएंगे। भारत में ऐपल फॉक्सकॉन, विस्ट्रॉन और पेगाट्रॉन के साथ मिलकर आईफोन का प्रोडक्शन करती है। देश के अंदर बनने के चलते बाद में इनकी कीमत में कटौती भी हो सकती है और भारतीय ग्राहकों को डिस्काउंट का फायदा मिल सकता है।