DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   गैजेट्स  ›  फटाफट खुलवाना चाहते हैं बैंक अकाउंट या करना चाहते हैं म्यूचुअल में निवेश तो Aadhaar Card यूजर्स जरूर कर लें ये काम

गैजेट्स फटाफट खुलवाना चाहते हैं बैंक अकाउंट या करना चाहते हैं म्यूचुअल में निवेश तो Aadhaar Card यूजर्स जरूर कर लें ये काम

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्ली Published By: Himani Gupta
Tue, 01 Jun 2021 05:59 PM
 फटाफट खुलवाना चाहते हैं बैंक अकाउंट या करना चाहते हैं म्यूचुअल में निवेश तो Aadhaar Card यूजर्स जरूर कर लें ये काम

आधार कार्ड (Aadhaar Card) बेहद महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट है। जिसके इस्तेमाल के बिना कई काम रुक सकते हैं। आधार की इसी अहमियत को ध्यान में रखते हुए इसमें एक कार्डधारक को अपडेटेड जानकारियों को दर्ज करवाना चाहिए। इसके साथ ही आजकल आधार ई-केवाईसी करवाना भी बहुत जरूरी हो गया है। इसी वजह से UIDAI ही आधार कार्डधारकों को घर बैठे ई-केवाईसी कराने की सुविधा देती है। UIDAI के मुताबिक ई-केवाईसी करवाने से ग्राहक के काफी काम आसान हो जाते हैं। ई-केवाईसी के जरिए कार्डधारक के आईडी प्रूफ, एड्रेस और अन्य डिटेल्स को इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से प्रमाणित किया जाता है। 


ई-केवाईसी के फायदे
वहीं यदि आप बैंक अकाउंट खोलना चाहते हैं या म्यूच्यूअल फंड में निवेश करना चाहते हैं, तो केवाईसी कराना जरूरी हो जाता है। किसी तरह के दस्तावेज जमा करने की जरूरत नहीं पड़ती है बल्कि आधार नंबर वेरिफिकेशन से ही हो जाता है। आधार का E-KYC हुआ हो तो आपको किसी तरह के दस्तावेज जमा करने की जरूरत नहीं पड़ती है बल्कि आधार नंबर वेरिफिकेशन से ही हो जाता है। ऐसे होने से समय की बचत होती है और कागजी प्रक्रियाओं से भी निजात मिलता है। इससे चोरी और धोखाधड़ी की संभवानाएं खत्म हो जाती है।

 

ये भी पढ़ें:- WhatsApp पर किसी ने आपको कर दिया Block? इस ट्रिक से कर पाएंगे चैट

 

ऐसे कर सकते हैं ऑनलाइन ई-केवाईसी
>> ग्राहक बैंक अधिकारी को अपना आधार कार्ड देता है।
>> बायोमेट्रिक स्कैनर ग्राहक का फिंगरप्रिंट या रेटिनल इमेज स्कैन करता है।
>> इसके अलावा मोबाइल ओटीपी ऑथेंटिकेशन भी उपलब्ध हैं।
>> बायोमेट्रिक के बाद वैल्यू को UIDAI तक सर्वर द्वारा भेजा जाता है।
>> उसके बाद यह देखा जाता है कि बायोमेट्रिक की वैल्यू डेटाबेस में मौजूद आधार नंबर की जानकारी से मेल खाती है या नहीं।
>> अगर वैल्यू मेल खाती है, तो यह मान लिया जाता है कि व्यक्ति की पहचान में कुछ संदेह करने वाला नहीं है।
>> वेरिफिकेशन के बाद UIDAI उसकी सभी जानकारी बैंक या एजेंट को उपलब्ध कराता है।

 

क्या है ऑफलाइन ई-केवाईसी
आधार पेपरलेस ऑफलाइन ई-केवाईसी में कार्डधारक को अपने आधार की फोटोकॉपी देने की जरूरत नहीं है और उसकी जगह KYC XML फाइल को डाउनलोड करना होता है और उसे एजेंसी को अपने केवाईसी के लिए देना होता है। इस XML फाइल में यूआईडीएआई का डिजिटल हस्ताक्षर होता है, जिससे इसकी सत्यता को प्रमाणित किया जा सकता है और किसी छेड़छाड़ को भी पकड़ा जा सकता है। एजेंसी OTP या फेस ऑथेंटिकेशन के जरिए भी प्रमाणिकता की जांच कर सकती है। ऑफलाइन ई-केवाईसी डेटा में व्यक्ति का नाम, उसका डाउनलोड रेफरेंस नंबर, घर का पता, फोटो, लिंग, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर, ई-मेल दिया होगा।

 

ये भी पढ़ें:- Aadhaar में गलत हो गया है नाम, पता और जन्म तिथि तो घर बैठे करें ठीक, बिना किसी टेंशन हो जाएगा काम

 

ऐसे करें ऑफलाइन ई-केवाईसी (E-KYC)
>> मौजूदा आधार कार्डधारकों को पेपरलेस ई-केवाईसी के लिए सबसे पहले UIDAI की आधिकारिक वेबसाइट https://uidai.gov.in/ पर जाना होगा।
>> आधार पेपरलेस ऑफलाइन ई-केवाईसी फॉर्म को डाउनलोड करना होगा। फॉर्म को भरने के बाद उसे जमा करना होगा।
>> जानकारी को XML फाइल के तौर पर डाउनलोड के लिए उपलब्ध कराया जाएगा, जिस पर UIDAI के डिजिटल हस्ताक्षर होगा।
>> डाउनलोड करने के बाद ऑफलाइन ई-केवाईसी डेटा को आपको संबंधित एजेंसी के साथ शेयर करना होगा।
>> इसे फिजिकल फॉर्मेट या डिजिटल किसी भी रूप में शेयर किया जा सकता है।

संबंधित खबरें