फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ गैजेट्सSpam Calls और अनजान कॉल से जल्द मिलेगी राहत! सरकार ला रही एक अनोखा मॉडल, जानिए क्या है प्लान?

Spam Calls और अनजान कॉल से जल्द मिलेगी राहत! सरकार ला रही एक अनोखा मॉडल, जानिए क्या है प्लान?

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) एक नए मॉडल पर काम कर रहा है जो अनिवार्य रूप से प्राप्तकर्ता के फोन स्क्रीन पर कॉलर का नाम फ्लैश करेगा। अभी फोन स्क्रीन पर नाम तभी शो होता है जब आपके पास नंबर हो

Spam Calls और अनजान कॉल से जल्द मिलेगी राहत! सरकार ला रही एक अनोखा मॉडल, जानिए क्या है प्लान?
Himani Guptaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 24 May 2022 11:09 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) एक नए मॉडल पर काम कर रहा है जो अनिवार्य रूप से प्राप्तकर्ता के फोन स्क्रीन पर कॉलर का नाम फ्लैश करेगा। अभी फोन स्क्रीन पर नाम तभी शो होता है जब आपकी कांटेक्ट लिस्ट में नंबर सेव हो।  पीटीआई के अनुसार एक टॉप अधिकारी के हवाले से, ट्राई जल्द ही फोन करने वाले के केवाईसी-आधारित नाम को फोन स्क्रीन पर फ्लैश करने के लिए एक तंत्र तैयार कर रहा है।

 

ये भी पढ़ें:- SBI यूजर्स को सरकार ने दी चेतावनी! कहा- अपने फोन से तुरंत डिलीट करें ये SMS; वरना..

 

Truecaller जैसे ऐप हैं जो नंबर सेव न होने पर यूजर्स को कॉल करने वालों की पहचान करने में मदद करते हैं। हालाँकि, इसकी सीमाएँ हैं क्योंकि ऐप पर अधिकांश डेटा क्राउडसोर्स है।

PTI की रिपोर्ट की माने तो ट्राई को दूरसंचार विभाग (DoT) से परामर्श शुरू करने के लिए एक संदर्भ प्राप्त हुआ है। ट्राई के चेयरमैन पीडी वाघेला ने कहा कि इस पर विचार-विमर्श कुछ महीनों में शुरू होने की उम्मीद है। हमें अभी एक संदर्भ मिला है, और हम जल्द ही इस पर काम शुरू करेंगे। 

केवाईसी के अनुसार नाम तब दिखाई देगा जब कोई कॉल करेगा। वाघेला ने कहा कि यह तंत्र दूरसंचार कंपनियों द्वारा किए गए केवाईसी के अनुसार, फोन स्क्रीन पर नाम प्रदर्शित करने में सक्षम होगा।

 

ये भी पढ़ें:- नया फोन खरीदने का है प्लान? तो देखें इस साल सबसे ज्यादा बिकने वाले Top-5 स्मार्टफोन की List

 

स्पैम कॉल से निपटने के लिए सरकार और स्मार्टफोन ओईएम के प्रयासों के बावजूद, यह कदम पूरे कॉलिंग नेटवर्क में पारदर्शिता ला सकता है। चूंकि यह कदम इस बिंदु पर सिर्फ एक संदर्भ है, विकास की वास्तविक समयरेखा अस्पष्ट बनी हुई है और पूरी तरह से पूरा होने में कई सालों लग सकते हैं। 

epaper