फोटो गैलरी

Hindi News गैजेट्सखुशखबरी: SIM Card खरीदते समय नहीं देने होंगे कोई कागज, मिनटों में हो जाएगा काम

खुशखबरी: SIM Card खरीदते समय नहीं देने होंगे कोई कागज, मिनटों में हो जाएगा काम

New SIM Card Rules: 1 जनवरी से सिम के पुराने रूल्स बदल रहे हैं। अगर आप फोन का इस्तेमाल करते हैं तो नए नियमों के बारे में जान लें। मोबाइल यूजर्स बिना कागजी फॉर्म भरे नए सिम कार्ड प्राप्त कर सकेंगे।

खुशखबरी: SIM Card खरीदते समय नहीं देने होंगे कोई कागज, मिनटों में हो जाएगा काम
Himani Guptaलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीThu, 07 Dec 2023 01:18 PM
ऐप पर पढ़ें

New SIM Card Rules: 1 जनवरी से सिम कार्ड के पुराने रूल्स बदल रहे हैं। अगर आप भी फोन का इस्तेमाल करते हैं तो इन नए नियमों के बारे में जानना आपके लिए बहुत जरूरी है। भारतीय मोबाइल यूजर्स बिना कागजी फॉर्म भरे नए सिम कार्ड प्राप्त कर सकेंगे। दूरसंचार विभाग (DoT) की हालिया अधिसूचना के अनुसार, कागज-आधारित नो-योर-कस्टमर (KYC) प्रक्रिया को 1 जनवरी, 2024 से समाप्त कर दिया जाएगा।

1 जनवरी से सिम कार्ड खरीदने के लिए आपको सिर्फ डिजिटल KYC करनी होगी। इससे पहले डॉक्यूमेंट्स का फिजिकल वेरिफिकेशन किया जाता था। नई प्रणाली के आने से सिम कार्ड ईशू प्रोसेस काफी फास्ट हो जाएगा और लोगों के लिए काफी आसानी भी हो जाएगी। 

 

धाकड़ ऑफर: धड़ाम से गिर गया इन 5 बेस्ट Smart TV का प्राइस, 15000 रुपये से कम में खरीदें

 

मौजूदा केवाईसी ढांचे में समय-समय पर किए गए विभिन्न चेंज को ध्यान में रखते हुए, सक्षम प्राधिकारी द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि दिनांक 09.08.2012 के निर्देशों में कागज-आधारित केवाईसी प्रक्रिया का उपयोग प्रभावी रूप से बंद कर दिया जाएगा। इस कदम से सिम धोखाधड़ी के मामलों पर कंट्रोल होने की उम्मीद है। इससे दूरसंचार कंपनियों की ग्राहक अधिग्रहण लागत में भी कटौती होने की संभावना है।

कागज-आधारित ग्राहक वेरिफिकेशन सिस्टम की प्रक्रिया में ग्राहकों को अधिग्रहण फॉर्म भरना, एक तस्वीर चिपकाना और फॉर्म के साथ पहचान प्रमाण और पते का प्रमाण को जोड़ना पड़ता है। सिम रिप्लेसमेंट के मामले में, केवाईसी प्रक्रिया को इनकमिंग और आउटगोइंग एसएमएस सुविधाओं के 24 घंटे के भीतर पूरा करना होगा।

 

SIM Card से जुड़े अन्य रूल्स 
इससे पहले, DoT ने घोषणा की थी कि टेलीकॉम कंपनियों के लिए प्रत्येक सिम यूजर्स का डिजिटल वेरिफिकेशन करना अनिवार्य होगा। पुलिस वेरिफिकेशन के लिए टेलीकॉम ऑपरेटर जिम्मेदार होंगे। बदलावों का पालन न करने पर डीलर को 10 लाख रुपये तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है।
इसके अलावा, DoT एक पहचान पर 9 से अधिक सिम कार्ड रखने वालों के मोबाइल कनेक्शन को निष्क्रिय कर रहा है। एक मोबाइल यूजर के पास अधिकतम नौ कनेक्शन ही हो सकते हैं। धोखाधड़ी के मामलों पर लगाम लगाने के लिए भी ऐसा किया जा रहा है।

 

iQOO के इस फोन के दीवाने हो रहे भारतीय, 9 घंटे में प्री-आर्डर पास Sold Out

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें