फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ गैजेट्सगूगल-एयरटेल डील: 30 करोड़ भारतीयों को सीधा फायदा; कैसे मिलेगा फायदा आप भी जानिए

गूगल-एयरटेल डील: 30 करोड़ भारतीयों को सीधा फायदा; कैसे मिलेगा फायदा आप भी जानिए

अगर आप भी अभी तक फीचर फोन यूज कर रहे हैं लेकिन स्मार्टफोन पर स्विच होने का प्लान कर रहे हैं, तो सही समय आने वाला है। गूगल-एयरटेल डील का 30 करोड़ ऐसे यूजर्स को फायदा होगा जो अभी तक फीचर फोन यूज कर रहे...

गूगल-एयरटेल डील: 30 करोड़ भारतीयों को सीधा फायदा; कैसे मिलेगा फायदा आप भी जानिए
Arpit Soniलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 28 Jan 2022 07:33 PM

अगर आप भी अभी तक फीचर फोन यूज कर रहे हैं लेकिन स्मार्टफोन पर स्विच होने का प्लान कर रहे हैं, तो सही समय आने वाला है। गूगल-एयरटेल डील का 30 करोड़ ऐसे यूजर्स को फायदा होगा जो अभी तक फीचर फोन यूज कर रहे हैं। जानिए एक्सपर्ट्स का इस बारे में क्या कहना है। दरअसल, एक्सपर्ट्स ने कहा कि गूगल डील एयरटेल को ऐसे स्मार्टफोन्स के साथ आने की अनुमति देगा जो नई सर्विसेस के कस्टमाइज्ड सॉफ्टवेयर के साथ आते हैं। इससे कंपनी को फीचर फोन से स्मार्टफोन पर शिफ्ट होने वाले ग्राहकों को लुभाने में बड़ी मदद मिलेगी। हालांकि, उन्होंने कहा कि एयरटेल को अपने हार्डवेयर पार्टनर्स पर निर्भर रहना होगा ताकि डिवाइस की ओवरऑल डिवाइस अफोर्डेबिलिटी को बेहतर किया जा सके, जो ऐसे समय में चुनौतीपूर्ण हो सकता है, दुनियाभर में सप्लाई चेन इश्यू बना हुआ है।

एयरटेल को लाना होगा किफायती स्मार्टफोन- राम
सीएमआर में इंडस्ट्री इंटेलिजेंस ग्रुप हेड प्रभु राम ने इकॉनोमिक टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में कहा, "भारत के फर्स्ट टाइम डिजिटल कंज्यूमर्स को स्थानीय भाषाओं में डिजिटल मेनस्ट्रीम से जोड़ने में सक्षम बनाने के लिए, किफायती स्मार्टफोन महत्वपूर्ण हैं। यह वह जगह है जहां एयरटेल को भारत की अनूठी चुनौतियों को हल करने में गूगल से सॉफ्टवेयर विशेषज्ञता का लाभ मिलेगा।"

राम ने कहा- एयरटेल को गूगल की सॉफ्टवेयर विशेषज्ञता का लाभ होना, यह इस बात पर भी निर्भर करेगा कि एयरटेल अपने हार्डवेयर पार्टनर्स के साथ कैसे काम करता है ताकि ओवरऑल डिवाइस अफोर्डेबिलिटी को बेहतर किया जा सके।"

ये भी पढ़ें- Driving License में घर बैठे ऐसे चेंज करें एड्रेस: ना RTO जाने का झंझट, ना एजेंट का लफड़ा

काउंटरपॉइंट रिसर्च के तरुण पाठक ने कहा कि एयरटेल और गूगल एंड्रॉइड वन जैसी रणनीति के लिए अप्रत्यक्ष दृष्टिकोण अपना सकते हैं। "एंट्री लेवल के फोन अच्छी तरह से बिक सकते हैं, यह एक ऑपरेटर के माध्यम से लॉक इन होने और डेटा बंडलिंग के साथ ईएमआई में भुगतान करने के माध्यम से है।"

पाठक ने कहा कि एयरटेल भी चीनी खिलाड़ियों के साथ सॉफ्ट-सिम बंडलिंग साझेदारी के साथ आ सकता है। जियोफोन नेक्स्ट स्मार्टफोन इसका ताजा उदाहरण है। दरअसल, हार्डवेयर को क्रैक करना मुश्किल है, इसलिए गूगल की मदद से ओईएम के साथ साझेदारी एयरटेल के लिए एक बेहतर मार्ग है।"

करोड़ों ग्राहकों को 4G में बदलना बड़ी चुनौती
मुंबई स्थित एक वरिष्ठ टेलीकॉम एनालिस्ट के अनुसार, तीन दूरसंचार कंपनियों को अगले 10 करोड़ से 15 करोड़ ग्राहकों को 4G में बदलने में मुश्किल हो रही है।

"कोई फर्क नहीं पड़ता कि टेलीकॉम क्या कहते हैं, अफोर्डेबिलिटी एक बड़ी बाधा है क्योंकि एक पूरा परिवार अपने फोन और प्राइस प्लान को अपग्रेड नहीं कर रहा है। कम आय वाले समूहों में यह आमतौर पर कमाई करने वाला व्यक्ति होता है जो हाई प्राइस प्लान की ओर जाता है। प्रीपेड टैरिफ बढ़ गए हैं साथ ही अन्य क्षेत्रों में भी खर्च बढ़ गया है, जिसका मतलब है कि मोबाइल फोन पर कम खर्च। डेटा की खपत में बढ़ोतरी का मतलब 4G चार्ट को ऊपर ले जाना नहीं है।"

ये भी पढ़ें- 11GB तक बढ़ जाएगी इन 4 सस्ते फोन की रैम, इस कंपनी ने ग्राहकों को दिया ये तोहफा

30 करोड़ यूजर्स को लुभाने का लक्ष्य
काउंटरप्वाइंट के अनुमानों के अनुसार, भारत का फीचर फोन यूजर बेस लगभग 30 करोड़ है। तीनों टेलीकॉम ऑपरेटर इन फीचर फोन यूजर्स को बंडल ऑफरिंग की मदद से अपने 4G नेटवर्क और स्मार्टफोन की ओर आकर्षित करने का लक्ष्य बना रहे हैं।

"स्मार्टफोन उपयोगकर्ताओं या दूसरे शब्दों में डिजिटल उपयोगकर्ताओं के विस्तार की मौलिक चुनौती केवल एक सफलता के माध्यम से हल की जा सकती है जहां प्रौद्योगिकी दिग्गज सहयोग करते हैं और एक आदर्श टेक्नो-कमर्शियल ऑफरिंग की पेशकश करते हैं। यह सहयोग इस दिशा में स्थायी समाधान खोजने में मदद करेगा। साथ ही साथ टेकआर्क के संस्थापक विश्लेषक फैसल कावूसा ने कहा, "5G को उपयोगकर्ताओं को उस पर लाने के लिए उपयोग के मामलों को समझने की जरूरत है। शुरुआती और समय पर तैयारी महत्वपूर्ण है और इस दिशा में एक सही कदम है।"

भारती एयरटेल के साथ अपनी साझेदारी के साथ, Google ने एक ब्लॉगस्पॉट में कहा कि वह भारत में एंड्रॉइड ओईएम इकोसिस्टम को विकसित करने में मदद करने के लिए नया और इनोवेटिव बिजनेस मॉडल बनाने की योजना बना रहा है।

गूगल ने कहा कि एयरटेल के साथ उसके संयुक्त प्रयास एक अरब से अधिक भारतीयों के लिए इंटरनेट को अधिक सुलभ और मददगार बनाने के लिए कंपनी के लिए फोकस का एक रणनीतिक क्षेत्र बना रहेगा।

इस डील के तहत हमारे पहले कमर्शियल एग्रीमेंट के एक हिस्से के रूप में, गूगल एयरटेल की व्यापक पेशकशों को बढ़ाने के लिए काम करेगा, जो उपभोक्ताओं को इनोवेटिव अफोर्डेबिलिटी प्रोग्राम्स के माध्यम से डिवाइसेस की एक सीरीज को कवर करता है।

epaper