DA Image
26 अक्तूबर, 2020|9:27|IST

अगली स्टोरी

Google का जन्मदिनः कैसे काम करता है गूगल, कभी बेचना चाहते थे फाउंडर्स, जानें दिलचस्प बातें

google, (credits_ google)

आज दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन 'गूगल' का जन्मदिन है, जो कि 20 साल का हो गया है। कंपनी ने जन्मदिन को डूडल और वीडियो बनाकर सेलिब्रेट किया है। वर्तमान में गूगल हमारी सबसे बड़ी जरूरत और हमराज बन गया है। चाहे शहर में मिठाई की दुकान खोजनी हो या दूर देश के किसी शहर की फोटो देखनी हो, हर जानकारी के लिए हम गूगल के पास जाते हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, जानकारी देने के साथ ही गूगल यह भी जानता है कि हम किस समय कहां हैं और क्या कर रहे हैं, तो हुआ ना हमराज।

लेकिन क्या आपको पता है कि गूगल की शुरुआत कहां से कैसे हुई और आखिर ये काम कैसे करता है? कैसे एक ही जगह बैठकर हमें दुनिया भर की जानकारी प्राप्त हो जाती है। तो आइए हम आपको बताते हैं पूरी जानकारी...

20 साल का हुआ Google, बनाया खास तरह का Doodle

 

'गूगल' कैसे बना सर्च इंजन...
अमेरिका की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी कर रहे लैरी पेज और सगेई ब्रिन ने जनवरी 1996 में रिसर्च प्रोजेक्ट के रूप में गूगल की शुरुआत की। उस समय इसका एड्रेस google.stanford.edu होता था, जिसका नाम BackRub रखा गया था, जिसे बाद में बदलकर Google कर दिया गया।

15 सितंबर 1997 को दोनों दोस्तों ने Google.com डोमेन को रजिस्टर्ड किया और 4 सितंबर 1998 में इसे एक कंपनी बनाया। इस कंपनी को लैरी पेज और सगेई ब्रिन ने अपनी दोस्त सुजैन वोजकिकी के गैराज में शुरू किया था, जो कि गूगल की पहली कर्मचारी भी थी और अब यूट्यूब की सीईओ हैं।

कैसे काम करता है गूगल...
इंटरनेट पर URL की मदद से हम कुछ भी सर्च कर सकते हैं, लेकिन URL नहीं होने पर हमें सर्च इंजन की जरूरत होती है। सर्च इंजन हमारे द्वारा दिए गए कीवर्ड्स से हमें जानकारी या किसी वेबसाइट तक पहुंचाता है। गूगल का 'वेब क्रॉलर' सॉफ्टवेयर इंटरनेट पर मौजूद सभी वेब पेजेस को देखता है और उनमें मौजूद लिंक और डेटा को गूगल सर्वर पर भेजता है। इसके बाद इस डेटा की इंडेक्सिंग की जाती है और सभी वेब पेजस के डेटा को सर्च इंजन पर भेज दिया जाता है। जैसे ही हम गूगल पर किसी चीज को सर्च करते हैं, तो गूगल का एल्गोरिदम उस शब्द का एनालिसिस करके सर्वर में मौजूद अरबों वेब पेजेस से हमारे मतलब की जानकारी निकाल कर देता है।

स्मार्टफोन से चलने वाली प्रणाली से पानी में सीसे की जांच संभव

क्या आप जानते हैं गूगल बिकने वाली थी...
कहा जाता है कि गूगल के शुरुआती दिनों में मुनाफा ना हो पाने की वजह से इसके फाउंडर ने कंपनी को बेचने के लिए एक्साइट कंपनी के सीईओ जॉर्ज बेल से 1999 में मुलाकात की थी। लेकिन जॉर्ज ने 1 मिलियन डॉलर में इसे खरीदने का ऑफर ठुकरा दिया था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:googles 20th birthday know how google works full details google interesting story