फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ गैजेट्सअब खांसी और खर्राटों को ट्रैक करेगा एंड्रॉइड स्मार्टफोन, गूगल ला रहा जबर्दस्त फीचर

अब खांसी और खर्राटों को ट्रैक करेगा एंड्रॉइड स्मार्टफोन, गूगल ला रहा जबर्दस्त फीचर

टेक कंपनी गूगल ऐसे फीचर डेवलप कर रही है, जो यूजर्स की खांसी और खर्राटों को उनके पिक्सेल फोन या एंड्रॉइड स्मार्टफोन का उपयोग करके ट्रैक करेगी। चौंक गए ना? चलिए डिटेल में बताते हैं सबकुछ

अब खांसी और खर्राटों को ट्रैक करेगा एंड्रॉइड स्मार्टफोन, गूगल ला रहा जबर्दस्त फीचर
Arpit Soniलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 28 May 2022 06:52 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

गूगल ने पिछले साल अपने पिक्सल स्मार्टफोन्स में दो नए फीचर पेश किए थे जो फोन के कैमरे और गूगल फिट ऐप का इस्तेमाल यूजर्स के दिल और सांस की दर को मापने के लिए करते हैं। अब, कंपनी ऐसे फीचर डेवलप कर रही है, जो यूजर्स की खांसी और खर्राटों को उनके पिक्सेल फोन या एंड्रॉइड स्मार्टफोन का उपयोग करके ट्रैक करेगी। चौंक गए ना? चलिए डिटेल में बताते हैं अपकमिंग फीचर के बारे में सबकुछ...

फिलहाल सिर्फ गूगल के कर्मचारी यूज कर पाएंगे
9टू5 गूगल ने गूगल हेल्थ स्टडी ऐप के लेटेस्ट अपडेट के एपीके टियरडाउन में खुलासा किया कि कंपनी पिक्सेल और एंड्रॉइड स्मार्टफोन पर ऑन-डिवाइस स्नोर और कफ डिटेक्शन फीचर्स की टेस्टिंग कर रही है। ये नए फीचर्स 'स्लीप ऑडियो कलेक्शन' स्टडी का हिस्सा हैं, जो फिलहाल केवल गूगल कर्मचारियों के लिए उपलब्ध है। स्टडी के लिए प्रतिभागियों को एक एंड्रॉइड फोन के साथ फुल टाइम गूगल कर्मचारी होना आवश्यक है। इस स्टडी के लिए आवश्यक पर्यावरणीय परिस्थितियों में एक ही कमरे में एक एडल्ट स्लीपर होना शामिल है जो एक प्रतिस्पर्धी कंपनी के लिए काम नहीं करता है।

ये भी पढ़ें- सस्ता हुआ iPhone 12: यहां 21 हजार कम में मिल रहा 128GB मॉडल, फटाफट देखें डील

फीचर की खासियत
गूगल ने स्टडी में बताया कि उसकी हेल्थ सेंसिंग टीम यूजर्स को उनके सोने के पैटर्न में मीनिंगफुल इनसाइट्स प्रदान करने के उद्देश्य से एंड्रॉइड डिवाइसेस के लिए सेंसिंग क्षमताओं के एक एडवांस्ड सूट पर काम कर रही है। दो फीचर्स, यानी खर्राटे का पता लगाना और नींद का पता लगाना, सपोर्टेड एंड्रॉइड और पिक्सेल फोन पर 'बेडसाइड मॉनिटरिंग' फीचर्स के रूप में उपलब्ध होने की उम्मीद है और उनसे 'प्राइवेसी प्रिजर्विंग' तरीके से डिवाइस पर काम करने की उम्मीद है। यानी, इन फीचर्स के एक हिस्से के रूप में इकट्ठा किए गए सभी डेटा को गूगल क्लाउड पर प्रसारित किए बिना यूजर्स के स्मार्टफोन पर रिकॉर्ड और प्रोसेस्ड किया जाएगा।

कब तक मिलेगा ये फीचर
जहां तक ​​उपलब्धता का सवाल है, यह स्पष्ट नहीं है कि क्या गूगल अपने पिक्सेल फोन और अपने एंड्रॉइड मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम से लैस सभी फोन पर खांसी का पता लगाने और खर्राटे का पता लगाने वाला फीचर्स उपलब्ध कराएगा। कम से कम, इन फीचर्स के पहले पिक्सेल फोन पर उपलब्ध होने की संभावना है, जैसा कि एंड्रॉइड स्मार्टफोन पर व्यापक रूप से उपलब्ध होने से पहले इसके हार्ट रेट और रेस्पिरेटरी रेट का पता लगाने की फीचर्स के साथ था। रिपोर्ट के मुताबिक, संभावना है कि ये फीचर अपकमिंग नेस्ट टैबलेट पर उपलब्ध हो सकते हैं।

(कवर फोटो क्रेडिट- newstextarea)

epaper