बैंक अकाउंट छोड़िए, अब चोरी होने लगे Youtube Account, हैकर्स ऐसे बना रहे शिकार

बैंक खातों के बाद अब हैकर्स यूट्यूब अकाउंट्स को भी अपना निशाना बनाने लगे हैं। जालसाज ब्राउजर कुकीज का इस्तेमाल कर यूट्यूब चैनल हैक कर रहे हैं और फिर उन्हें बेच देते हैं। ताजा स्कैम का खुलासा गूगल के...

Vishal Kumar लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्ली
Sun, 24 Oct 2021, 10:06:AM

बैंक खातों के बाद अब हैकर्स यूट्यूब अकाउंट्स को भी अपना निशाना बनाने लगे हैं। जालसाज ब्राउजर कुकीज का इस्तेमाल कर यूट्यूब चैनल हैक कर रहे हैं और फिर उन्हें बेच देते हैं। ताजा स्कैम का खुलासा गूगल के थ्रेट एनालिसिस ग्रुप ने किया है। Google ने 4,000 प्रभावित अकाउंट्स को रिस्टोर किया और 62,000 फिशिंग पेजों और 2,400 मैलिशियस फाइल्स को ब्लॉक किया है। यहां हम इस स्कैम से जुड़ी पूरी डिटेल्स बताने जा रहे हैं। 

इस तरह काम करता है YouTube scam
जहां बाकी हैकिंग मैलिशियस लिंक और फर्जी लॉगिन पेज पर निर्भर होते हैं, वहीं यूट्यूब स्कैम यूजर्स का सारा लॉगिन डेटा चुराने के लिए कुकी (cookie) का इस्तेमाल करता है। यह हैकिंग का एक महंगा तरीका है और इसके लिए बहुत ज्यादा मशक्कत लगती है। इसके लिए शिकार यूजर को लॉग इन रहने और अटैक के दौरान डिवाइस कुकीज रखने की जरूरत पड़ती है। रिपोर्ट की मानें तो हैकर्स को YouTube चैनल के मालिक के सिस्टम पर मैलिशियस फाइल्स और ऐप्स भी भेजने पड़ते हैं। 

यह भी पढ़ें: दिवाली से पहले Noise का तोहफा, लॉन्च किए 25 घंटे से ज्यादा चलने वाले Earphones, कीमत 1100 रुपये से कम

यूजर को अपना शिकार बनाने के लिए हैकर्स आमतौर पर खुद को ऐसा व्यक्ति बताते हैं, जो यूजर के चैनल पर रिव्यू कराने के लिए पार्टनरशिप करना चाहता है। हैकर्स किसी VPN ऐप, एंटिवायरस ऐप या किसी गेम का रिव्यू कराने का बहाना बनाते हैं। यूजर के हां करने पर हैकर्स खतरनाक फाइल्स और लिंक भेजते हैं, जिन्हें इंस्टॉल करने से सामने वाले व्यक्ति का सिस्टम खराब हो जाता है और सारा ब्राउजर कुकी डेटा चोरी हो जाता है। 

यह भी पढ़ें: Jio, Airtel, Vi के ग्राहकों को बड़ा झटका! दिवाली से पहले महंगे हो सकते हैं ये प्रीपेड और पोस्टपेड प्लान्स

आपको बता दें कि कुकीज फाइल में आमतौर पर लॉगिन डिटेल्स होती हैं। एक बार चैनल हैक होने के बाद उनका इस्तेमाल फर्जी क्रिप्टो स्कीम, डोनेशन कैंपेन, और इसी तरह के फर्जी इस्तेमाल में होता है। कुछ चैनल्स को 4,000 डॉलर तक की कीमत पर बेच दिया जाता है। यूट्यूब क्रिएटर्स को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी फाइल को डाउनलोड करने से पहले अपने सावधान रहें। साथ ही 2 फैक्टर ऑथेंटिकेशन को भी एक्टिवेट रखें। 

हमें फॉलो करें
ऐप पर पढ़ें
News Iconगैजेट्स की अगली ख़बर पढ़ें
Youtube ChannelYoutubeHackingtech news in hinditech news hindi
होमफोटोवीडियोफटाफट खबरेंएजुकेशन