DA Image
Sunday, November 28, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ गैजेट्सSquid Game के नाम का फर्जी ऐप बना रहा शिकार, Google ने किया बैन, आप भी कर दीजिए डिलीट

Squid Game के नाम का फर्जी ऐप बना रहा शिकार, Google ने किया बैन, आप भी कर दीजिए डिलीट

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीVishal Kumar
Mon, 25 Oct 2021 07:49 AM
Squid Game के नाम का फर्जी ऐप बना रहा शिकार, Google ने किया बैन, आप भी कर दीजिए डिलीट

नेटफ्लिक्स के लेटेस्ट सीरीज Squid Game काफी पॉप्युलर हो रही है। यह दर्शकों को इतनी पसंद आई है कि Bloomberg की रिपोर्ट के मुताबिक, इसकी कमाई 891 मिलियन डॉलर पार कर गई। ऐसे में हैकर्स और जालसाज स्क्विड गेम की पॉप्युलैरिटी का गलत फायदा उठाने की सोच रहे हैं। हाल ही में Google ने Play Store से एक ऐसे ही ऐप को बैन किया है, जो इस गेम के नाम पर लोगों को चूना लगा रहा था। 

दरअसल सिक्यॉरिटी कंपनी ESET के विशेषज्ञ लुकास स्टेफ़ानको (Lukas Stefanko) ने सबसे पहले इस मैलवेयर ऐप का खुलासा किया है। यह खतरनाक ऐप Squid Game Wallpaper 4K HD के नाम से प्ले स्टोर पर उपलब्ध था। रिपोर्ट के मुताबिक, इस ऐप में जोकर मैलवेयर छिपा था। यह पहली बार नहीं है, जब इस खतरनाक मैलवेयर से जुड़ी खबर सामने आई हो। हालांकि किसी वेब सीरीज के नाम पर इसे फैलाने का मामले हम पहली बार सुन रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: रूस में 61 सैमसंग स्मार्टफोन की बिक्री पर लगा बैन, वजह जानकर दंग रह जाएंगे 

इस तरह ऐप लगा रहा चूना
रिसर्चर्स की मानें, तो यह ऐप यूजर्स को फर्जी विज्ञापनों और SMS सब्सक्रिप्शन के जरिए चूना लगा रहा है। इसका मतलब यह है कि यूजर्स को अपने डिवाइस पर न केवल ढेर सारे विज्ञापन दिखाई देते हैं, बल्कि बिना पता लगे ही उन्हें कई प्रीमियम सर्विस के लिए भी साइन अप कर दिया जाता है, जिसके लिए मोटा चार्ज वसूला जाता है। फोर्ब्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, इस स्क्विड गेम वॉलपेपर 4K HD ऐप को बैन किए जाने से पहले कम से कम 5,000 बार डाउनलोड किया जा चुका है। 

यह भी पढ़ें: Jio, Airtel, Vi के ग्राहकों को बड़ा झटका! दिवाली से पहले महंगे हो सकते हैं ये प्रीपेड और पोस्टपेड प्लान्स

Google ने अब ऐप को प्ले स्टोर से हटा दिया है। हालांकि जिन एंड्रॉइड यूजर्स ने ऐप डाउनलोड किया होगा, उन्हें इसे तुरंत अपने डिवाइस से हटा देना चाहिए क्योंकि उनके लिए खतरा अभी भी बना हुआ है। साथ ही, भविष्य में ऐसे किसी भी ऐप्स को डाउनलोड करने से पहले सतर्क रहना चाहिए। किसी ऐप को तभी डाउनलोड करें, जब वो आधिकारिक कंपनी की तरफ से जारी की गई हो। बता दें कि फिलहाल इसी तरह के 200 से ज्यादा ऐप प्ले स्टोर पर उपलब्ध हैं। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें