DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सॉफ्टवेयर से खाली स्थान पर क्रैश लैंडिंग करेगा ‘ड्रोन’

मानव रहित विमान ड्रोन में अगर तकनीकि खराबी आती है तो वे नियंत्रण से बाहर हो जाते थे। इससे वह क्रैश लैंडिंग के दौरान किसी भी इमारत से टकरा जाता। नासा के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार किया है जिसके जरिए ड्रोन विमानों में तकनीकि खराबी आने के बाद भी सुरक्षित स्थान पर क्रैश लैंडिंग कराई जा सकती है।

अमेरिका में नासा के लांग्ले रिसर्च सेंटर में एयरोस्पेस की शोधकर्ता पेट्रिशिया ग्लैब ने ड्रोन के लिए क्रैश लैंडिंग सॉफ्टवेयर तैयार किया है। अब तक इस सॉफ्टवेयर के आठ सफल परीक्षण किए जा चुके हैं। इसमें एक खास तरह की बैटरी और मोटर लगाई जाती है। इससे ड्रोन की स्थिति का पता चलता रहता है। जैसे ही ड्रोन नियंत्रण से बाहर होता है। यह प्रणाली तुरंत ही सूचना देकर ड्रोन को क्रैश लैंडिंग मोड पर ले आती है। जब ड्रोन क्रैश होता है तो सॉफ्टवेयर में पहले से मौजूद सूचना के आधार पर सुरक्षित स्थान पर उसे लैंड कराता है। इस सॉफ्टवेयर में ऐसी प्रणाली लगी है जिसके जरिए ड्रोन किसी भी स्थान से टकराने से भी बचता है।  

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:drone will do crash landing in vacate place of software