DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पानी के संकट की संभावना को बताएगी AI

people on road in munger due to scarcity of water in fierce heat

विश्व के किसी हिस्से में पानी के संकट से होने वाले संघर्ष का पता पहले ही लगाया जा सकेगा। इसके लिए आर्टिफिशल इंटेलिजेंस का सहारा लिया जाएगा जो कि एक साल पहले ही बता देगा कहां पानी को लेकर लड़ाई होने वाली है और फिर उस संघर्ष को रोका जा सकेगा।  पानी का मुद्दा सच मे बहुत ही गंभीर मुद्दा है। हमारे जल स्त्रोत कम होते जा रहे हैं और आबादी के हिसाब से पीने के पानी की कमी होती जा रही है।

पढ़ेंः Vivo Z1 Pro की hands-On Images लीक, इसमें दिखा पंच होल और Triple camera

बनाया डाटा को ट्रैक करने वाला टूल
नीदरलैंड्स स्थिति वॉटर, पीस ऐंड सिक्यॉरिटी पार्टनरशिप (डब्ल्यूपीएस) ने एक टूल बनाया है जो कि दुनियाभर में पानी की आपूर्ति, सामाजिक, आर्थिक व डेमोग्राफिक डाटा को ट्रैक करेगा। टेस्टिंग के दौरान इस टूल ने माली के इनर नाइजर डेल्टा में तीन चौथाई से अधिक पानी संबंधी संघर्षों का पूर्वानुमान व्यक्ति किया था। इस टूल को साल के अंत में वैश्विक रूप से लॉन्च किया जाना है। 

पढ़ेंः सोचने भर से नियंत्रित होगा आपका मोबाइल 

पहले भी हुईं थीं कोशिशें, पर नहीं मिली थी सफलता
डब्ल्यूपीएस से जुड़ी सुसेन ने कहा, 'हम पानी के लिए लड़ाई का पहले ही पता लगाना चाहते हैं और उसके बाद उस पर बातचीत करना चाहते हैं ताकि इस समस्या का समाधान किया जा सके।' पहले भी ऐसे टूल का इजाद करने की कोशिशें हुई हैं लेकिन वह सफल नहीं हो पाई हैं क्योंकि पानी के लिए संघर्ष की वजहें इलाके के हिसाब से अलग-अलग रही हैं। उधर, डब्ल्यूपीएस ने कहा कि उनका टूल इस दिशा में एक कदम है। इस टूल में दुनियाभर के जल संसाधनों को मॉनिटर करने के लिए नासा और यूरोपियन स्पेस एजेंसी के सैटलाइट्स के डाटा का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा भी इस तकनीक से कई और आने वाली दिक्कतों से निपटा जा सकेगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Artificial Intelligence Tools to Predict Water Conflicts up to an Year in Advance