DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   गैजेट्स  ›  iPhone 12 Pro खरीदने की सोच रहे हैं? जानें क्या है खास और कैसे किया निराश?
गैजेट्स

iPhone 12 Pro खरीदने की सोच रहे हैं? जानें क्या है खास और कैसे किया निराश?

विशाल अहलावत,नई दिल्लीPublished By: Vishal Kumar
Tue, 13 Apr 2021 06:48 PM
iPhone 12 Pro खरीदने की सोच रहे हैं? जानें क्या है खास और कैसे किया निराश?

स्मार्टफोन : Apple iPhone 12 Pro
डिस्प्ले : 6.1‑इंच OLED डिस्प्ले
स्टोरेज : 128GB, 256GB, 512GB
प्रोसेसर: A14 बायोनिक चिपसेट
रियर कैमरा : 12MP + 12MP + 12MP 
फ्रंट कैमरा : 12MP 
कीमत : 1,19,900 रुपये से 1,49,900 रुपये तक

विशाल अहलावत, नई दिल्ली।

हाल ही में मार्केट रिसर्च कंपनी काउंटरपॉइन्ट रिसर्च (Counterpoint Research) ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि जनवरी 2021 में आईफोन 12 सीरीज के फोन दुनिया के सबसे ज्यादा बिकने वाले स्मार्टफोन रहे हैं। इस सीरीज का iPhone 12 Pro स्मार्टफोन यूएस में काफी पॉप्युलर हुआ। फोन की खासियत इसका ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप है। इन दिनों इस मॉडल पर ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट्स पर कुछ ऑफर्स भी चल रहे हैं। तो अगर आप भी नया एप्पल आईफोन 12 प्रो खरीदने के बारे में सोच रहे हैं तो पहले इसकी खासियत और कमियों के बारे में जरूर जान लें। हमनें यह फोन महीनाभर इस्तेमाल किया है। यहां हम आपको फोन के कुछ पॉजिटिव और नेगेटिव पॉइंट्स के बारे में बताएंगे। तो शुरुआत इसके पॉजिटिव पॉइंट्स से करते हैं

iPhone 12 Pro के वो फीचर्स, जो हैं खास:

1. डिजाइन और डिस्प्ले

एप्पल आईफोन अपने डिजाइन और डिस्प्ले के लिए हमेशा से जाने गए हैं और आईफोन 12 प्रो भी इससे अलग नहीं है। फोन दूर से ही समझ आ जाता है कि एप्पल का है। इसके रियर पार्ट में दिए गए तीन कैमरा सेंसर्स बताते हैं कि यह साइज में भले ही आईफोन 12 जितना हो, लेकिन है प्रो मॉडल। प्रो मॉडल को अलग बनाने के लिए कंपनी ने इसे गोल्ड, ग्रेफाइट, पैसिफिक ब्लू और सिल्वर कलर्स में बनाया है। ये कलर्स आईफोन 12 में नहीं मिलते। हमारे पास 512 जीबी वाला इसका पैसिफिक ब्लू मॉडल है। 

कंपनी ने 12 सीरीज में फोन का डिजाइन पूरी तरह बदल दिया है। इसका डिजाइन आपको आईफोन 5 की याद दिलाता है। इसमें मेटल फ्रेम और राउंड की जगह चपटी शेप मिलती है। फोन में 6.1 इंच का OLED डिस्प्ले दिया गया है, जो 2532 x 1170 पिक्सल रेजॉल्यूशन के साथ आता है। डिस्प्ले के बेजल्स काफी पतले हैं और इसमें ऊपर नॉच भी मिलती है। स्क्रीन को प्रोटेक्ट करने के लिए सेरेमिक शील्ड दी गई है। फिर भी फोन को स्क्रैच से बचाने के लिए कवर इस्तेमाल करना ठीक रहेगा। मैं वनप्लस 7T का रेग्युलर यूजर रहा हूं, जिसके मुकाबले इस डिस्प्ले के व्यूइंग एंगल और कलर्स काफी अच्छे हैं। साथ ही इसे इस्तेमाल करते हुए आंखों पर बहुत ज्यादा दवाब भी महसूस नहीं होता। 

2. फोटोग्राफी के लिहाज से कैमरा

आईफोन 12 की जगह 12 प्रो अगर कोई खरीदता है, तो जाहिर सी बात है सबसे बड़ा अपग्रेड कैमरे का ही है। इसके रियर कैमरा सेटअप में f/1.6 अपर्चर के साथ 12mp का प्राइमरी सेंसर, f/2.0 अपर्चर के साथ 12mp का टेलीफोटो लेंस और f/2.4 अपर्चर के साथ 12mp का अल्ट्रा-वाइड लेंस मिलता है। इसे अब तक का बेस्ट स्मार्टफोन कैमरा तो नहीं कह सकते, लेकिन इसकी क्वालिटी सच में शानदार है। 

फोन का कैमरा Night Mode और Deep Fusion जैसे शानदार मोड सपोर्ट करता है। हालांकि इसकी जूम क्वालिटी बहुत अच्छी नहीं है। आईफोन 12 प्रो का स्मार्ट एचडीआर 3 फीचर सीन को समझता है और इसी हिसाब से सेटिंग्स अप्लाई करता है। यह तस्वीरों को ज्यादा जीवित और वाइब्रेंट बनाता है।

इसका Deep Fusion फीचर फोन के टेलीफोटो लेंस का इस्तेमाल करके तस्वीरें क्लिक करता है। अगर आपको रात में बेहतरीन तस्वीरें लेनी हैं तो Night Mode का इस्तेमाल करें। यह मोड आईफोन 12 प्रो के वाइड, अल्ट्रा वाइड और ट्रूडेप्थ कैमरा में उपलब्ध है। 

3. वीडियो बनाने के लिए लाजवाब

आईफोन 12 प्रो का सबसे ज्यादा लुत्फ मैने वीडियो बनाने में लिया है। इसके जरिए आप 4K वीडियो 60fps पर रिकॉर्ड कर सकते हैं। इन दिनों 4K क्वालिटी काफी आम हो चली है। अधिकतर स्मार्ट टीवी 4K सपोर्ट के साथ आ रहे हैं। वीडियो का स्टेबलाइजेशन बहुत बढ़िया है। कई बार तो आपको गिंबल की भी जरूरत महसूस नहीं होती। एक और खास बात है कि आप वीडियो को फोन में दिए iMovie सॉफ्टवेयर के जरिए एडिट भी कर पाते हैं। 

4. A14 बायोनिक चिपसेट की परफॉर्मेंस 

एप्पल आईफोन 12 प्रो में सीरीज के बाकी फोन्स की तरह A14 बायोनिक चिपसेट दिया गया है। यह सबसे फास्ट प्रोसेसर्स में से एक है। फोन कहीं भी आपको रुकावट महसूस नहीं होने देता। आप 4K जैसे हैवी वीडियोज को फटाफट एडिट कर पाते हैं, जो कंप्यूटर के लिए भी कई बार मुश्किल हो जाता है। फोन की कॉल क्वालिटी भी बढ़िया है। यह iOS 14.1 ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है। और चूंकि यह आईफोन है तो आपको प्राइवेसी या डेटा लीक की बहुत ज्यादा फिक्र करने की भी जरूरत नहीं है। 


iPhone 12 Pro के वो बातें, जिन्होंने किया निराश:

1. फेस आईडी और हीटिंग

स्मार्टफोन में अनलॉक करने के लिए पासवर्ड और फेसआईडी का फीचर मिलता है। यहां मैं फेसआईडी की परफॉर्मेंस से बिलकुल निराश नहीं हूं। यह काफी बढ़िया काम करता है और पलक झपकते ही फोन को अनलॉक कर देता है। मुझे परेशानी हुई मास्क पहनकर इसे अनलॉक करने में। कोरोना की वजह से मास्क तो जरूरी हो ही गया, लेकिन जब भी फोन का अनलॉक करना चाहा, उसके लिए या तो मास्क उतारिए या फिर पासवर्ड डालिए। मुझे नए आईफोन में एंड्रॉइड स्मार्टफोन की तरह इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट का इंतजार रहेगा। 

 iphone camera

दूसरी समस्या हीटिंग की भी रही। जैसा कि मैं पहले ही बता चुका हूं, फोन मेटल फ्रेम का बना है। शायद इस वजह से मुझे कई बार हीटिंग की समस्या हुई है। और ऐसा अधिकतर उस समय पर हुआ जब मैने फोन का हॉटस्पॉट खोला हुआ था। 

2. नए आईफोन का बॉक्स

एप्पल ने आईफोन 12 सीरीज के साथ नए ट्रेंड को सेट किया है। कंपनी ने बॉक्स में चार्जर न देने का फैसला किया है। ईयरफोन्स तो कंपनी पहले से ही नहीं देती थी। ऐसे में फोन के बॉक्स में सिर्फ फोन और यूएसबी टाइप-सी टू लाइटनिंग केबल मिलती है। अगर आपके पास पहले से इसका अडेप्टर नहीं है तो आपको कम से कम ₹1900 खर्च करके 20वॉट यूएसबी-सी अडेप्टर लेना होगा। वहीं, अगर आप MagSafe वायरलेस चार्जर लेना चाहते हैं तो इसकी कीमत ₹4500 रुपये अलग से होगी। इसके अलावा बैक कवर के लिए भी आपको थोड़ा एक्स्ट्रा खर्च करना होगा। 

iphone 12 pro  photo  vishal ahlawat

3. एंड्रॉइड से iPhone पर शिफ्ट हो रहे हैं तो?

मुझे सबसे आखिरी समस्या एंड्रॉइड से आईफोन पर शिफ्ट होने में हुई। सबसे पहले तो एंड्रॉइड यूजर्स को ढेरों एप्स की आदत हो जाती है वह आईफोन में छूट जाएगी। यहां लिमिटेड एप्स ही मिलते हैं और शायद इसी वजह से यह ज्यादा सिक्यॉर भी है। अगर एंड्रॉइड से आईफोन पर डेटा भेजना चाहते हैं तो यह काम आपको फोन सेटअप करते समय ही निपटा लेना होगा, नहीं तो फोन रिसेट करना आखिरी रास्ता बचेगा। सबसे मुश्किल तो व्हाट्सएप बैकअप लेना है। अगर आप एंड्रॉइड से आईफोन पर शिफ्ट हो रहे हैं तो आपका चैट बैकअप गया समझिए। यहां आपको जीरो से शुरूआत करनी होगी।  हालांकि कुछ ऐप्स हैं जो पैसे लेकर बैकअप ट्रांसफर करने का दावा करते हैं, जिनका इस्तेमाल करना मुझे ठीक नहीं लगा। 

संबंधित खबरें