फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ गैजेट्सभारतीय भाषाओं में पाइए ज्ञान और मनोरंजन

भारतीय भाषाओं में पाइए ज्ञान और मनोरंजन

हिन्दी के उपभोगकर्ताओं के लिए एक बेहद उपयोगी एप लॉन्च हुआ है, जिसका नाम है आवाज.कॉम (aawaz .com )। एप निर्माता कंपनी दावा है कि इस प्लेटफॉर्म पर हिन्दी व अन्य भारतीय भाषाओं में उपभोगकर्ताओं को...

भारतीय भाषाओं में पाइए ज्ञान और मनोरंजन
Rohitलाइव हिन्दुस्तान ,नई दिल्ली Tue, 22 Jan 2019 01:04 PM

हिन्दी के उपभोगकर्ताओं के लिए एक बेहद उपयोगी एप लॉन्च हुआ है, जिसका नाम है आवाज.कॉम (aawaz .com )। एप निर्माता कंपनी दावा है कि इस प्लेटफॉर्म पर हिन्दी व अन्य भारतीय भाषाओं में उपभोगकर्ताओं को गुणवत्तापूर्ण कन्टेंट पढ़ने और सुनने को मिलेगा, जिसमें करियर, खेल, मनोरंजन जैसे क्षेत्र की जानकारियों से उपयोगकर्ता लगातार अपडेट होते रहेंगे। साथ ही किसानों के लिए कृषि संबंधी विशेष सामग्री उपलब्ध होगी। यह एप फिलहाल वेब और एंड्रॉयड एप के रूप में उपलब्ध है। स्मार्टफोन उपयोगकर्ता इसे प्ले स्टोर से मुफ्त में डाउनलोड कर सकते हैं।

पढ़ेंः अब ग्लोबली भी 5 लोगों से ज्यादा को नहीं फॉरवर्ड कर पाएं वॉट्सएप संदेश

पॉडकास्ट, चैटशो और महत्वपूर्ण लेख भी मिलेंगे 
इस एप पर 150 घंटे से अधिक समय के वीडियो, ऑडियो और 1000 से अधिक लेख उपलब्ध हैं। साथ ही यहां पॉडकास्ट, चैटशो भी उपलब्ध हैं। एप में विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों द्वारा तैयार किए ऑडियो शो सुनने का मौका मिलेगा, उन ऑडियो में आवाज होगी मशहूर रेडियो जॉकी की। इसमें पॉडकास्ट की तर्ज पर अधिकतम दस मिनट के ऑडियो शो बनाए गए हैं। अन्य हास्य वीडियो मात्र तीस सेकंड से तीन मिनट के होंगे।  

पढ़ेंः पांच कैमरे वाला LG V40 ThinQ का ऑर्डर शुरू, 24 से होगी बिक्री

विज्ञापन मुक्त और सुरक्षित है यह आवाज एप 
एप निर्माता कंपनी मुंबई स्थित अग्राह्य: टेक्नोलॉजीज के सह-संस्थापक रामन त्यागराजन का कहना है कि इस एप का कंटेन्ट पूरी तरह से विज्ञापन मुक्त होगा और एप में डाटा संबंधी सुरक्षा पुख्ता है। उनका कहना है कि एप में उपलब्ध कंटेन्ट उपयोगी, मनोरंजक और परिवार के साथ सुनने योग्य है, साथ ही यह अंग्रेजी से इतर भारतीय भाषाओं में पॉडकास्ट उपलब्ध कराता है, जिसे आम उपयोगकर्ताओं सहजता से सुनकर मनोरंजन कर सकेंगे। मशीन लर्निंग और कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर आधारित यह एप कम डाटा पर बिना रुके चलता है। वहीं, सह संस्थापक ऋषभ वसा और सलाहकर्ता अनुराग गौड़ मानते हैं कि सरल भाषा में कंटेन्ट उपलब्ध कराना इसका उद्देश्य है।

epaper