फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News फैक्ट चेकओमिक्रॉन का सब-वैरिएंट दिमाग के लिए घातक? जानिए फैक्ट चेक में यह दावा सही साबित हुआ या नहीं

ओमिक्रॉन का सब-वैरिएंट दिमाग के लिए घातक? जानिए फैक्ट चेक में यह दावा सही साबित हुआ या नहीं

फैक्ट चेक में यह बात सामने आई है कि सब-वैरिएंट बीए.5 के दिमाग के लिए घातक होने की बात सही नहीं है। PIBFactCheck ट्विटर हैंडल से सोमवार को ट्वीट करके बताया कि इस तरह का दावा गलत है।

ओमिक्रॉन का सब-वैरिएंट दिमाग के लिए घातक? जानिए फैक्ट चेक में यह दावा सही साबित हुआ या नहीं
corona
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 02 Jan 2023 09:22 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

कोरोना वायरस का संक्रमण एक बार फिर चीन, जापान समेत दुनिया के कई देशों में तेजी से बढ़ रहा है। इसे देखते हुए अलग-अलग देशों में कोविड-19 के इन्फेक्शन को रोकने को लिए तरह-तरह के कदम उठाए जा रहे हैं। इस बीच ओमिक्रॉन के सब-वैरिएंट्स को लेकर कई तरह के दावे सामने आए हैं। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया कि सब-वैरिएंट बीए.5 का काफी खतरनाक बताया गया है। यह दावा किया जा रहा है कि बीए.5 लोगों के दिमाग के लिए घातक साबित हो सकता है। हालांकि, यह दावा सही नहीं है।

PIB फैक्ट चेक में यह बात सामने आई है कि सब-वैरिएंट बीए.5 के दिमाग के लिए घातक होने की बात गलत है। PIBFactCheck ट्विटर हैंडल से ट्वीट करके बताया कि यह दावा सही नहीं है और पूरी तरह से गुमराह करने वाला है। इस फैक्ट चेक के मुताबिक, न्यूज रिपोर्ट में स्टडी के हवाले से यह बात कही जा रही है लेकिन शोध में तो यह साबित ही नहीं हुआ है। स्टडी में ओमिक्रॉन के सब-वैरिएंट बीए.5 से मानवों के दिमाग पर असर पड़ने की बात सामने नहीं आई है।

बीए.5 को लेकर हुए ये दावे
मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा था कि स्टडी के दौरान बीए.5 सब-वैरिएंट ने चूहे के मस्तिष्क और सुसंस्कृत मानव मस्तिष्क के ऊतकों को अधिक नुकसान पहुंचाया। इससे मस्तिष्क में सूजन, वजन घटने और मौत की आशंका बढ़ गई। रिसर्चर्स के हवाले से बताया कि चूहे बीए.5 के मस्तिष्क संक्रमण से मर गए। ऐसे में इस वैरिएंट को बाकियों की तुलना में अलग तरह का पाया गया। ऐसा कहा गया कि बीए.5 अन्य ओमिक्रॉन सब-वैरिएंट्स की तुलना में अधिक संक्रामक है और यह पहले के टीकाकरण के बावजूद मानव प्रतिरक्षा प्रणाली से बच सकता है।

अगर भारत में कोरोना के मौजूदा हाल की बात करें तो पिछले 24 घंटे में 173 मामले मिले। इस दौरान 207 लोगों ने संक्रमण को मात दी। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि अब तक 220.10 करोड़ से अधिक टीके दिए जा चुके हैं। इस महामारी से अब तक निजात पाने वालों की कुल संख्या बढ़कर 4,41,44,236 हो गई है और देश में स्वस्थ होने की दर 98.80 प्रतिशत है। इस दौरान कोविड-19 से संक्रमित एक मरीज की मौत हो गई है। देश में इस समय कोरोना के 2670 सक्रिय मामले हैं। दैनिक संक्रमण दर 0.19 प्रतिशत और सक्रिय मामलों की दर 0.01 प्रतिशत है।