DA Image

अगली स्टोरी

राधा मोहन सिंह

भाजपा शासित केंद्र की कैबिनेट में कृषि जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल रहे राधा मोहन सिंह का राजनीतिक करियर एक आम पार्टी कार्यकर्ता के रूप में शुरू हुआ। वह बिहार से हैं, उनका बचपन आरएसएस की शाखा में जाकर बीता और बड़े हुए तो राष्ट्रीय जनसंघ के कार्यकर्ता बन गए फिर बीजेपी बनी तो वहां सेवाएं जारी रखीं। हिंदुत्व छवि के राधा मोहन सिंह के राजनीतिक सफर को बड़ी सफलता मोदी के नेतृत्व वाली सरकार में मिली। पहले उन्हें कैबिनेट में जगह दी गई और फिर कृषि एवं कृषक कल्याण मंत्रालय दिया गया। 

राजनीतिक सफर 

2016 में पदभार संभालते समय राधा राम मोहन सिंह ने कहा था कि उनकी प्राथमिकता गौ रक्षा और गाय की भारतीय नस्लों का विकास होगी, जिसके बाद वह चर्चा में आ गए थे और गौ रक्षा के लिए सरकार की तैयारियों की झलक आमलोगों को मिली थी। राधा मोहन सिंह अपने छात्र जीवन में मोतिहारी से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नगर प्रमुख (1967-68 तक ) रहे। अगले साल अपने मंडल से जनसंघ के लिए मंडल सचिव हो ग्ए। पूर्वी चंपारण निर्वाचन क्षेत्र बनने पर उन्हें वहां से भाजपा का जनरल सेक्रेटरी बनाया गया।  1989 में वह 9वीं लोकसभा में चुनकर पहुंचे। फिर 11वीं, 13वीं, 15वीं और 16वीं यानी वर्तमान लोकसभा के लिए निर्वाचित होकर पहुंचे। 

जन्म व शिक्षा

राधा मोहन सिंह का जन्म एक सितंबर 1949 में बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के नरहा पनमपुर गांव में हुआ। उनके पिता कृषक थे। उन्होंने मोतीहारी स्थित एमएस कॉलेज से स्नातक किया।

  • 1
  • of
  • 174616

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

  • 1
  • of
  • 174616

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

  • 1
  • of
  • 174616

जब पप्पू की रोटी के ऊपर से गुजरा चूहा

पप्पू डिनर करने बैठा, तभी उसकी रोटी के ऊपर से चूहा गुजर गया..

फेकू: मुझे नहीं खानी चूहे के पैर से रौंदी हुई यह रोटी..

पप्पू: खाले यार... कौन सा चूहे ने चप्पले पहन रखीं थीं..