DA Image

अगली स्टोरी

धर्मेन्द्र प्रधान

धर्मेन्द्र प्रधान भारत सरकार में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री हैं। इससे पहले वह भारतीय जनता पार्टी के महासचिव रह चुके हैं। वह मध्य प्रदेश से राज्य सभा सदस्य हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में नई सरकार के गठन के दौरान प्रधान को पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) की जिम्मेदारी सौंपी गई। नेतृत्व की उम्मीदों पर खरे उतरने में उन्होंने कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी और सरकार की महत्वाकांक्षी उज्ज्वला योजना को जरूरतमंदों तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। उनके प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय में कैबिनेट मंत्री बनाया गया। साथ ही कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय की भी जिम्मेदारी सौंप दी गई।

राजनीतिक सफर

वह वर्ष 2000 में 31 साल की उम्र में पहली बार उड़ीसा के पलहदा विधान सभा से चुनाव जीतकर विधायक बने। इसके बाद वर्ष 2004 में उड़ीसा के देवगढ़ लोक सभा क्षेत्र से चुनाव जीतकर 14वीं लोक सभा के सदस्य बने। अपने पिता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्वर्गीय देबेन्द्र प्रधान से राजनीतिक गुर सीखने वाले प्रधान अपना राजनीतिक हुनर झारखंड,  बिहार और उत्तराखंड में चुनाव के दौरान दिखा चुके हैं। बिहार का प्रभारी रहते हुए भारतीय जनता पार्टी ने पिछले लोक सभा चुनाव में बेहतरीन प्रदर्शन किया। वह वर्ष 2007 से 2010 तक छत्तीसगढ़ के प्रभारी रहे। इसके बाद वर्ष 2011-13 तक कर्नाटक के प्रभारी रहे। साथ ही वर्ष 2011 में झारखंड के प्रभारी भी रहे। प्रधान वर्ष 2012 में बिहार से राज्य सभा के लिए चुने गए थे। वह वर्ष 2013 से लेकर वर्तमान तक बिहार के प्रभारी हैं।

प्रारंभिक जीवन

धर्मेन्द्र प्रधान राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सदस्य भी हैं। वह 35 वर्ष की उम्र में 2004 में भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष बने और दो साल तक इसका नेतृत्व किया।

जन्म तिथि : 26 जून, 1969

शिक्षा : वे उत्तकल यूनिवर्सिटी से मानव विज्ञान में स्नातकोत्तर हैं।

  • 1
  • of
  • 174616

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

  • 1
  • of
  • 174616

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

  • 1
  • of
  • 174616

जब पप्पू की रोटी के ऊपर से गुजरा चूहा

पप्पू डिनर करने बैठा, तभी उसकी रोटी के ऊपर से चूहा गुजर गया..

फेकू: मुझे नहीं खानी चूहे के पैर से रौंदी हुई यह रोटी..

पप्पू: खाले यार... कौन सा चूहे ने चप्पले पहन रखीं थीं..