DA Image

अगली स्टोरी

दीपिका कुमारी

दीपिका कुमारी भारतीय तीरंदाज हैं। वर्तमान में वह विश्व में पांचवें स्थान पर है, और इससे पहले वह शीर्ष स्थान पर थीं।  उन्होंने 2010 राष्ट्रमंडल खेलों में महिलाओं के व्यक्तिगत रिकर्व खेल में स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने डोला बनर्जी और बॉम्बेला देवी के साथ महिला टीम रिकर्व प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता। दीपिका कुमारी ने लंदन में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक 2012 के लिए क्वालीफाई किया, जहां उन्होंने महिला व्यक्तिगत और महिला टीम प्रतिस्पर्धा  में भाग लिया। वह प्रतियोगिता में आठवें स्थान पर रहीं।
उन्हें भारत के राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी द्वारा वर्ष 2012 में भारत के दूसरे सबसे बड़े खेल पुरस्कार अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। फरवरी 2014 में उन्हें फिक्की स्पोर्ट्स ऑफ द ईयर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। इसके बाद 2016 में भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री नागरिक सम्मान से सम्मानित किया।
करियर-
दीपिका कुमारी ने अपने खेल की शुरुआत अर्जुन तीरंदाजी अकादमी से की। उन्होंने 2005 में अपनी पहली सफलता हासिल की। लेकिन उनकी पेशेवर तीरंदाजी यात्रा वर्ष 2006 में शुरू हुई जब उन्होंने जमशेदपुर में टाटा तीरंदाजी अकादमी में प्रशिक्षण लेना शुरू किया। इस युवा तीरंदाज ने 2006 में मैरीदा मेक्सिको में आयोजित वर्ल्ड चैंपियनशिप में कम्पाउंड एकल प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक हासिल किया। ऐसा करने वाली वे दूसरी भारतीय थीं। यहां से शुरू हुए सफर ने उन्हें विश्व की नम्बर वन तीरंदाज का तमगा हासिल कराया। सबसे पहले वर्ष 2009 में महज 15 वर्ष की दीपिका ने अमेरिका में हुई 11वीं यूथ आर्चरी चैम्पियनशिप जीत कर अपनी उपस्थिति जाहिर की थी। फिर 2010 में एशियन गेम्स में कांस्य हासिल किया। इसके बाद इसी वर्ष राष्ट्रमण्डल खेलों में महिला एकल और टीम के साथ दो स्वर्ण हासिल किये।
प्रारंभिक जीवन-
दीपिका कुमारी का जन्म रांची से 15 किमी दूर रतु चती गांव में हुआ था। उस समय पिता शिवनारायण महतो एक ऑटो-रिक्शा चालक थे और माता गीता महतो रांची मेडिकल कॉलेज में एक नर्स थीं। एक बच्चे के रूप में, उन्होंने तीरंदाजी का अभ्यास आमों को लक्ष्य बना कर किया। शुरुआती दिनों में माता-पिता के लिए दीपिका के सपनों को आर्थिक रूप से समर्थन देना मुश्किल था। अक्सर परिवार को उनके लिए नए उपकरण खरीदने के लिए बजट से समझौता करना पड़ता था। नतीजतन, दीपिका ने घर में बने धनुष और तीर (बांस द्वारा निर्मित) का उपयोग करके तीरंदाजी का अभ्यास किया।  टाटा तीरंदाजी अकादमी में रहने वाली उनकी चचेरी बहन विद्या कुमारी ने दीपिका की प्रतिभा विकसित करने में मदद की।
जन्म तिथि - 13 जून 1994

  • 1
  • of
  • 179162

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

  • 1
  • of
  • 179162

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

  • 1
  • of
  • 179162

पप्पू को कोई मरने नहीं देता

पप्पू परेशान होकर अपने फेकू से: कहां मरूं मैं, कोई मरने ही नहीं देता.. 

फेकूः क्यों क्या हुआ? 



पप्पूः किसी लड़की को बोलता हूं कि तुम पर मरता हूं तो ब्लॉक कर देती हैं।