फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजन टीवीकास्टिंग काउच को याद कर दहल जाती हैं रतन राजपूत, बोलीं- ‘प्रोड्यूसर ने कहा बेटी के साथ भी सो जाता’

कास्टिंग काउच को याद कर दहल जाती हैं रतन राजपूत, बोलीं- ‘प्रोड्यूसर ने कहा बेटी के साथ भी सो जाता’

टीवी एक्ट्रेस रतन राजपूत ने कास्टिंग काउच का एक किस्सा साझा किया जब वो एक प्रोड्यूसर से मिलने पहुंची थीं। प्रोड्यूसर ने उनसे कहा कि वो उन्हें उनसे फ्रेंडशिप करनी होगी तब वो उन पर पैसे लगाएगा।

कास्टिंग काउच को याद कर दहल जाती हैं रतन राजपूत, बोलीं- ‘प्रोड्यूसर ने कहा बेटी के साथ भी सो जाता’
Shrilataलाइव हिंदुस्तान,मुंबईSat, 24 Sep 2022 10:03 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

ग्लैमर इंडस्ट्री में कास्टिंग काउच के बारे में अक्सर सुनने को मिलता है। खासकर स्ट्रगलर को इसका सामना करना पड़ता है। ‘अगले जनम मोहे बिटिया ही कीजो’ की एक्ट्रेस रतन राजपूत ने अपना किस्सा साझा किया और बताया कि जब वो इंडस्ट्री में नई-नई थीं तो उन्हें भी कास्टिंग काउच झेलना पड़ा। वो एक प्रोड्यूसर से मिलने पहुंची थीं जिसकी उम्र 60-65 के करीब थी और उसने काम के बदले उनसे कॉम्प्रोमाइज (समझौता) करने के लिए कहा। रतन राजपूत ने कहा कि आज भी जब वो ये याद करती हैं तो उन्हें बहुत गुस्सा आता है।

प्रोड्यूसर ने की थी डिमांड


रतन राजपूत अभी टीवी पर कोई काम नहीं कर रही हैं। वह अपना यूट्यूब वीडियो साझा करती रहती हैं  जिसमें वो अपनी दिनचर्या शेयर करती हैं। अपने वीडियो में रतन ने बताया कि साल 2007 में वो एक प्रोड्यूसर से मिलने पहुंची थीं जो कि काफी मशहूर था। उसने उनसे कहा कि वो उन पर 4-5 लाख खर्च करने वाला है जिससे उनका मेकओवर हो जाएगा। तब रतन ने उनसे पूछा, ‘लेकिन मैं क्यों करूं?’ तो प्रोड्यूसर ने इशारे में कहा, ‘आपको फ्रेंडशिप करना पड़ेगा।‘

मीटिंग से निकल आई थीं रतन राजपूत


रतन ने उससे कहा, ‘आप मेरे पिता की उम्र के हो... मैं फ्रेंडशिप कैसे करूंगी।‘ रतन की बातें सुनते ही वह प्रोड्यूसर गुस्से में आ गया और उसने कहा, ‘सुनो... अगर मेरी बेटी भी एक्ट्रेस बनती तो उसके साथ भी मैं सोता।‘ इतना सुनते ही रतन हैरान रह गईं और उन्हें कुछ समझ नहीं आया। वह किसी तरह बहाना बनाकर उस मीटिंग से निकल आईं।

‘मिल जाए जूतों से मारूं’ 


रतन कहती हैं जब भी उन्हें वह घटना याद आती तो वह गुस्से से भर जाती हैं। उन्हें समझ नहीं आता कि आखिर उन्होंने उस वक्त कुछ क्यों नहीं कहा। आज कोई उनसे इस तरह की बातें करें तो वह उसे चप्पलों से मारकर आएं। वह कहती हैं, ‘कितना लीचड़ आदमी था... ऐसे इंसान को मर जाना चाहिए। आज भी मेरा मन करता है, मैं जाऊं वहां पे, वो आदमी मिल जाए और मैं अपना जूता निकाल कर मारूं।‘

रतन ने बताया कि उन्होंने कभी काम के लिए कॉम्प्रोमाइज नहीं किया और वह अपनी शर्तों पर काम करती आई हैं।
 

लेटेस्ट Entertainment News के साथ-साथ TV News, Web Series और Movie Review पढ़ने के लिए Live Hindustan AppLive Hindustan App डाउनलोड करें।
epaper