फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मनोरंजन टीवीशूटिंग के दिन उपवास रखते थे ‘रामायण’ के ‘रावण’, रोल के लिए अमरीश पुरी थे पहली पसंद

शूटिंग के दिन उपवास रखते थे ‘रामायण’ के ‘रावण’, रोल के लिए अमरीश पुरी थे पहली पसंद

‘आदिपुरुष’ के किरदारों की तुलना रामानंद सागर के ‘रामायण‘ से हो रही है। सीरियल में अरविंद त्रिवेदी रावण बने थे। इस रोल से उन्हें घर-घर लोकप्रियता मिली। जानिए उन्हें ये रोल कैसे मिला।

शूटिंग के दिन उपवास रखते थे ‘रामायण’ के ‘रावण’, रोल के लिए अमरीश पुरी थे पहली पसंद
Shrilataलाइव हिंदुस्तान,मुंबईTue, 04 Oct 2022 09:09 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

‘आदिपुरुष’ में सैफ अली खान के रावण अवतार पर जमकर बवाल मचा हुआ है। उनके लुक्स को लेकर हिंदू संगठनों और बीजेपी ने आपत्ति जताई और फिल्म के बैन की मांग की जा रही है। टीजर आने के बाद से ही सोशल मीडिया पर भी गुस्सा देखा जा रहा है। फिल्म के किरदारों की तुलना रामानंद सागर के ‘रामायण‘ से हो रही है। 80 के दशक में प्रसारित ‘रामायण‘ के हर कलाकार ने पूरी जान डाल दी। यही वजह है कि आज तक सीरियल में नजर आए कलाकार अपने किरदारों से ही जाने जाते हैं। रावण का रोल करके अरविंद त्रिवेदी घर-घर लोकप्रिय हो गए लेकिन आप ये जानकर हैरान हो जाएंगे कि रामानंद सागर के लिए वो पहली पसंद नहीं थे। 

ऐसे मिला था रावण का रोल


अरविंद त्रिवेदी मध्य प्रदेश के इंदौर के रहने वाले थे और उन्होंने गुजराती फिल्मों में ज्यादा काम किया। जब उन्हें पता चला कि रामानंद सागर ‘रामायण‘ बना रहे हैं तो वो गुजरात से मुंबई ऑडिशन के लिए पहुंचे। उन्होंने तो केवट के रोल के लिए ऑडिशन दिया था। रावण के किरदार के लिए सभी चाहते थे कि अमरीश पुरी को लिया जाए। अरविंद त्रिवेदी ने केवट के किरदार के लिए ऑडिशन दिया। जब वो बाहर निकलने लगे तो बॉडी लैंग्वेज और एटीट्यूड देखकर रामानंद सागर ने उन्हें रावण का रोल दिया।‘ 

भारी भरकम ज्वैलरी और कपड़े


रावण के रोल में ढलने के लिए कड़ी मेहनत लगती थी। शूटिंग से 5 घंटे पहले वो तैयार होना शुरू कर देते थे। उनकी ज्वैलरी से लेकर कपड़ों का वजन ही कई किलो का होता था। उनका मुकुट ही दस किलो का हुआ करता था।

शूटिंग के वक्त रखते थे उपवास


अरविंद खुद भी राम भक्त और शिव भक्त थे। जब वो शूटिंग पर जाते थे तो पूरा दिन व्रत रखते थे। शूटिंग खत्म करने के बाद वो रात में अपना व्रत तोड़ते थे। उन्हें इस बात का बहुत अफसोस होता था कि स्क्रिप्ट की वजह से उन्हें भगवान राम के लिए कड़वे शब्दों का प्रयोग करना पड़ता था। 

82 साल की उम्र में हुआ निधन


कोरोना काल में जब ‘रामायण‘ का प्रसारण फिर से टीवी पर किया गया तो अरविंद त्रिवेदी भी सुर्खियों में आए। उन्होंने अपना सोशल मीडिया पेज बनाया जिससे वो फैन्स से रूबरू हो सकें। अरविंद त्रिवेदी का निधन पिछले साल 6 अक्टूबर को हुआ। वह 82 साल के थे।

लेटेस्ट Entertainment News के साथ-साथ TV News, Web Series और Movie Review पढ़ने के लिए Live Hindustan AppLive Hindustan App डाउनलोड करें।
epaper