Hindi Newsमनोरंजन न्यूज़टीवीNitish Bhardwaj Claim Custody Issue Is Still Pending And His Daughters Life Is Getting Affected

नीतीश भारद्वाज का दावा- एक्स वाइफ स्मिता के पास नहीं कस्टडी ऑर्डर, बच्चों पर पड़ रहा असर

नीतीश भारद्वाज कुछ समय से अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर काफी सुर्खियों में हैं। एक्टर की बच्चों की कस्टडी को लेकर एक्स वाइफ स्मिता से लड़ाई चल रही है। इसके अलावा दोनों ने एक-दूसरे पर कई आरोप लगाए हैं।

Sushmeeta Semwal लाइव हिन्दुस्तानWed, 21 Feb 2024 07:09 AM
हमें फॉलो करें

टीवी शो महाभारत में श्री कृष्ण के किरदार से सबके दिल में बसे हुए नीतीश भारद्वाज का उनकी एक्स पत्नी स्मिता के साथ विवाद बढ़ता ही जा रहा है। कुछ दिनों पहले उनकी एक्स वाइफ स्मिता ने कहा था कि बच्चों की कस्टडी उनके पास है। अब इस पर एक्टर का रिएक्शन आया है। उनका कहना है कि उनकी बेटियों की लाइफ पर काफी असर पड़ रहा है इससे। इसके अलावा उन्होंने स्मिता पर बच्चों की लाइफ को खराब करने के आरोप लगाए हैं।

पत्नी को बताया झूठा

नीतीश ने ई टाइम्स से बात करते हुए कहा कि स्मिता ने एक इंटरव्यू में दावा किया है कि कोर्ट ने उन्हें कस्टडी दी है। ऐसे ही वह झूठ बोलती हैं जबकि मेरे वीडियो में मैंने दिखाया है कि जज ने कहा है कि कस्टडी अभी पेंडिंग है। किसी को परमानेंट कस्टडी नहीं मिली है। अभी कोर्ट में फैसला किया जाएगा कि बच्चे किसके पास रहेंगे।

बच्चों पर पड़ रहा असर

नीतीश ने आगे बताया कि जब तक कस्टडी डिसाइड नहीं हो जाती तब तक मां जो टेमपररी फिलहाल कस्टडियल पैरेंट हैं उनकी ड्यूटी है कि वह मुझे बच्चों को लेकर हर चीज बताएं। इतना ही नहीं उन्हें कोर्ट को भी बताना होगा। लेकिन वह किसी को नहीं बताती है। नीतीश ने आगे स्मिता पर आरोप लगाया कि उनकी वजह से मेरे बच्चों की पढ़ाई पर असर पड़ रहा है। बच्चों के भोपाल और ऊटी के स्कूल में 5-6 महीने का गैप आ रहा है। वह बच्चों की लाइफ में मानसिक, इमोशनल, शारीरिक और साइकोलॉजिकल आधार पर बहुत अस्थिरता पैदा कर रही हैं जिसका असर काफी लंबा रहेगा।

स्मिता क्या बोलीं

स्मिता का कहना है कि नीतीश चाहते थे कि मैं जॉब छोड़ दूं, लेकिन जब मैंने मना किया तो उन्होंने तलाक की बात रख दी। जब मैं तलाक के लिए तैयार हुई तो उन्होंने सहमति से तलाक के लिए पैसे मांगे, जिसे मैंने देने से इनकार कर दिया और फिर उन्होंने विक्टिम कार्ड खेलना शुरू कर दिया। स्मिता का दावा है कि बच्चों के जन्म से ही नीतीश ने कभी आर्थिक तौर पर बच्चों के लिए अपना कोई योगदान नहीं दिया है। ना ही कभी उन्होंने बच्चों की फीस दी।

ऐप पर पढ़ें